किताबों में समाया नया पुराना साहित्य संसार 

0
875
मोतीमहल लान में राष्ट्रीय पुस्तक मेला
लखनऊ, 14 अगस्त। ‘न कभी प्रेमचंद, निराला, महादेवी का जमाना खत्म होगा और न ‘मधुशाला’, ‘गुनाहों का देवता’, ‘राग दरबारी’ व ‘टोपी शुकुल’ जैसे काव्य व कथा साहित्य को भूल पाएंगे। नये की बीच पुराना साहित्य हरदम अपना अलग आयाम पेश करेगा। यह निष्कर्ष उन साहित्यप्रेमियों को देखकर निकाला जा सकता है जो यहां मोतीमहल वाटिका लाॅन राणा प्रताप मार्ग में चल रहे राष्ट्रीय पुस्तक मेले में आ रहे हैं। पुस्तक मेले में पुस्तकें न्यूनतम 10 प्रतिशत छूट पर मिल रही है।
मेले में ज्ञानपीठ के स्टाल पर वाणी बसु का लिपिका साहा द्वारा अनुवादित उपन्यास ‘मैत्रेय जातक’ और संतोष चैबे के उपन्यास ‘जलतरंग’ के साथ ही नया ज्ञानोदय के ताजा अंक को साहित्यप्रेमी अपनी निगाहों में परख रहे हैं। बिहार हिन्दी ग्रंथ अकादमी के स्टाल में भारतीय साहित्य कोश, भारतीय आलोचना शास्त्र व हिन्दी व्याकरण का इतिहास जैसी अनेक विषयों की किताबें हैं। वाणी प्रकाशन में राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त यतीन्द्र मिश्र की ‘लता सुर गाथा’, व नदीम हसनैन की ‘दूसरा लखनऊ’ के साथ ही नई पुस्तकों में रामजी तिवारी की ‘लद्दाख में कोई रैंचो नहीं रहता’, राकेश तिवारी की ‘फसक’, रवीन्द्र वर्मा की ‘एक डूबते जहाज की अंतर्कथा’ और नागभूषण पटनायक की ‘क्रान्ति की राह में’ जरूर टटोली जा रही है। राजपाल एण्ड संस में नई किताबों में ‘रीबूटिंग इण्डिया’ के साथ ही साहित्य में लापता हो गये रचनाकार स्वदेश दीपक का कथा संग्रह ‘बगूगोशे’ लोगों को आकर्षित कर रहा है। प्रभात प्रकाशन लोकप्रिय कहानियां शृंखला में वृंदावन लाल वर्मा, श्रीलाल शुक्ल, सच्चिदानंद जोशी, डा. विद्याविंदु सिंह, मीरा सीकरी, बलराम आदि का कथा साहित्य लाया है तो केके पब्लिकेशन ने हास्य व्यंग्य सरताज सीरीज में डा.सूर्यकुमार पाण्डे, जेमिनी हरयाणवी, सरोजनी प्रीतम, डा.सुरेश अवस्थी, राजेन्द्र पटोरिया आदि के 10 खण्ड लेकर आया है। संयोजक देवराज अरोड़ा ने बताया कि इसके अतिरिक्त, राजकमल, लोकभारती, किताबघर, साहित्य भण्डार, अमन प्रकाशन, राजस्थान पत्रिका, परिमल प्रकाशन व प्रकाशन विभाग के स्टालों पर साहित्य और अन्य विषयों की नई पुस्तकें खूब हैं।
सांस्कृतिक पाण्डाल में आयोजनों का क्रम आज निशीथ गुप्ता व शिखा गुप्ता के संयोजन में सहज योग से आत्म साक्षात्कार कार्यक्रम से प्रारम्भ हुआ। साहित्यिक आयोजनों में रोली शंकर श्रीवास्तव के उपन्यास ‘गुलमोहर एक यात्रा’ पर हुए संवाद में अनेक रचनाकारों ने अपने वक्तव्य रखे। काव्या सतत साहित्य यात्रा समूह के अलका प्रमोद के संचालन में चले कार्यक्रम में कैलाश निगम, ओम नीरव, सीमा अग्रवाल, संध्या सिंह, निवेदिता सिंह, निशा कोठारी, डा.मधु चतुर्वेदी,  आदि ने रचना पाठ किया। डा.मंजूषा मोहन की अंग्रेजी पुस्तक ‘एन इनचैंटिंग टेल आफ डिवाइन लव’ के लोकार्पण समारोह में महेन्द्र भीष्म और मृत्युंजय मिश्र अतिथियों के तौर पर सम्मिलित हुए। प्रभात प्रकाशन की ‘मुझे यूपीएससी टापर बनना है’ के लेखक निशांत जैन ने उपस्थित युवाओं के सामने प्रतियोगी परीक्षा का लक्ष्य भेदने के गुर बताए और सवालों के जवाब भी दिए। काव्य समारोहों की शृंखला में डा.सुनील जोगी के संयोजन में प्रशासनिक अधिकारियों का विशिष्ट कवि सम्मेलन भी देर शाम प्रारम्भ हुआ।
अगीत परिषद द्वारा रंगनाथ मिश्र के संयोजन में शुरू हुई काव्यगोष्ठी से आज सांस्कृतिक मंच सुबह से ही गूंजता रहा। शीला पाण्डेय के निबंध संग्रह ‘समय के घेरे’ पर चली चर्चा में हरिमोहन बाजपेयी ने कहा कि इसके महिलाओं से जुड़े आयामों पर लिखे निबंध प्रभावी हैं। प्रो.त्रिभुवननाथ शुक्ल ने कहा कि ये निबंध अपने समय से संवाद करते लगते हैं। स्वयं लेखिका ने कहा कि उनकी कोशिष समाज की परतों के भीतर के सत्य को रखने की रही है। अंत में आभार पद्मकांत शर्मा ने व्यक्त किया। इसी क्रम में डा.अमिता दुबे की पुस्तक ‘अभिव्यक्ति के इन्द्रधनुष’ और काव्य संग्रह ‘ऐसा मन करता है’ का लोकार्पण कौशलेन्द्र पाण्डेय, डा.योगेश प्रवीन, डा.वंदना श्रीवास्तव, अलका प्रमोद आदि अनेक रचनाकारों की उपस्थिति में हुआ। दोनों ही पुस्तकों की विद्वानों से सारगर्भित समीक्षा की। विनय वाजपेयी के कविता संग्रह ‘निकलेगा जयहिन्द’ के लोकापर्ण में डा.विद्याविंदु सिंह, डा.सूर्यप्रसाद दीक्षित, डा.महेशचन्द्र द्विवेदी आदि ने विचार रखे। इसी क्रम में उदय सेनापति की पुस्तक ‘फिल्म मेकिंग’ का भी विमोचन हुआ। समापन सुन्दरम संस्था के काव्य समारोह से हुआ।
पुस्तक मेले में आज 15 अगस्त 2017 
अपराह्न 11.30 बजे – परिचर्चा- आज का समय और साहित्यकारों का दायित्व
अपराह्न 2.00 बजे – कवयित्री सम्मेलन व नीरजा हेमेन्द्र की कृति ‘ढूंढकर लाआ’ का लोकार्पण
शाम 5.00 बजे –  निगहत खान की पुस्तक का विमोचन
शाम 5.30 बजे- अमिताभ कुमार की पुस्तक ‘सरपंच’ का लोकार्पण
 शाम 7.00 बजे- लक्ष्य साहित्यिक संस्था का राष्ट्र भावना काव्य समारोह
पुस्तक मेले में कल 16 अगस्त 2017
पूर्वाह्न 11.00 बजे – नवसृजन संस्था द्वारा काव्य गोष्ठी
अपराह्न 2.00 बजे –  युग गरिमा पत्रिका द्वारा काव्य सम्मेलन
अपराह्न 3.30 बजे –  उत्कर्ष प्रतिष्ठान की ओर से साहित्यिकी आयोजन
शाम 5.00 बजे- साहित्यकार शिरोमणि सम्मान व लखनऊ सेवारत्न सम्मान समारोह
शाम 6.00 बजे- राजेश अरोड़ा शलभ की पुस्तक ‘राग सरकारी’ का लोकार्पण
शाम 7.00 बजे- अखिल भारतीय कवि सम्मेलन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here