लोग उस कमरे में जाने से डरते थे जहां हम चारों होते थे

0
322

लॉकडाउन होने और शूटिंग पर रोक लगे होने के कारण टेलीविजन सितारों को घर पर बैठकर आराम करने और अपने परिवार के साथ वक्‍त बिताने का समय मिल गया है। कुछ लोग इस समय को जी भरकर जी रहे हैं तो कुछ अपने को.स्‍टार्स को मिस कर रहे हैं और सेट पर वापस लौटने का इंतजार कर रहे हैं।

सोनी सब का फैंटेसी शो बालवीर रिटर्न्‍स के सभी कलाकार बेहद शानदार है। इसमें दो जादुई दुनिया वीर लोक और काल लोक को दिखाया गया है। काल लोक में रहने वाले लोगों ने परदे पर आतंक मचाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। वैसेए ऑफ.स्‍क्रीन पवित्रा पुनिया- आदित्‍य रणविजय अतुल वर्मा और श्रीधर वत्‍सर की यह पूरी गैंग सबसे ज्‍यादा मस्‍ती और शैतानी करने वालों के रूप में जानी जाती है। इन एक्‍टर्स के बीच बेहद ही खास रिश्‍ता है और ऐसे समय में उन्‍हें एक.दूसरे की याद सता रही है।

काल लोक के सदस्‍यों के बारे में बताते हुए तिमनासा का किरदार निभा रहीं पवित्रा पुनिया कहती हैं। श्काल लोक में हम चारों लोग बेस्‍ट फ्रेंड की तरह हैं। बालवीर रिटर्न्‍स की पूरी यूनिट मेंए हम ही ऐसे हैं। जो पूरे दिन हंसते रहते हैं। हम कभी भी अकेले अपने कमरे में नहीं बैठे रहते और हमेशा किसी ना किसी के कमरे में जमे रहते हैं। हम साथ में खाते हैं सोते हैं और शूटिंग करते हैं। अभी जबकि हम शूटिंग नहीं कर रहे हैंए मुझे उनकी और भी याद आ रही है। खासकर उस खाने की जो वे मेरे लिये घर से लाया करते थे। आदित्‍य घर पर बने स्‍पेशल शेज़वान सॉस लेकर आते थे और वह बहुत ही स्‍वादिष्‍ट होता है और हम सभी उसके दीवाने हैं। श्रीधर जी की पत्‍नी मूंग दाल की भाजी बनाती हैं यह एक हेल्‍दी सूखी सब्‍जी होती है और मैं उनसे सारा छीन लेती थी और खुद चट कर जाती थी। अतुल खुद खाना बनाते हैं इसलिये वह कुछ बेहद ही स्‍वादिष्‍ट चीजें लेकर आया करते थे और हमें एक साथ मिलकर लंच करने में बड़ा मजा आता था।

सेट की बहुत ही बेहतरीन बातें याद करते हुएए पवित्रा कहती हैं। लोग उस कमरे में जाने से डरते थे जहां हम चारों होते थे। जो हमारे कमरे में घुसने की हिम्मत करता है वह पूरी तरह रोस्ट होने के लिये तैयार होता है । वह ऐसा था कि हमारे कमरे के बाहर एक अदृश्‍य नोटिस बोर्ड लगा था कि कृपया अंदर तभी आयें जब आप रोस्‍ट होना चाहते हैं। लेकिन वह सबकुछ मजाक के रूप में है।

वह आगे कहती हैं श्काल लोक में सभी मुझे मम्मी बुलाते हैं और वो मेरे साथ काल लोक की मां की तरह व्‍यवहार करते हैं। यदि मैं सेट पर एक दिन भी नहीं होती हूं तो वे मुझे कॉल करके बताते हैं कि मेरे बिना शूटिंग करने में क्‍यादृक्‍या परेशानियां आयीं। इसकी तुलना किसी चीज से नहीं की जा सकती।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here