सुनामी ने किया हज़ारों को बेघर, मौसम विभाग ने दी तेज लहरें आने की चेतावनी

0
64
  • लोग खुले आसमान के नीचे रहने को हुए मजबूर, इंडोनेशिया में लोग सुनामी के दोबारा आने से हैं शशंकित: मरने वालों की संख्या बढ़ कर 430 हुई, सैकड़ों लापता
  • मौसम विभाग ने एक बार फिर अलर्ट जारी कर लोगों को तटों से दूर रहने को कहा

नई दिल्ली, 27 दिसम्बर 2018: इंडोनेशिया में सुनामी के कहर ने जो तबाही मचाई है उससे हज़ारों लोग बेघर हो गए हैं और न जाने कितने ऐसे परिवार हैं जिनमें लोग जो बिछड़ें हैं उनका अभी कुछ पता नहीं चला हैं मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इंडोनेशियाई अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि सुंडा स्ट्रेट में ज्वालामुखी फटने के बाद आई विनाशकारी सुनामी में मरने वालों की संख्या बढ़कर 430 हो गई है जबकि करीब 22 हजार लोग विस्थापित हुए हैं। बता दें कि इससे पहले 26 दिसम्बर 2004 बॉक्सिंग डे को सुमात्रा के उत्तरी तट पर 9.1 की तीव्रता वाले भूकंप के कारण आई सुनामी में मारे गए 167, 799 लोगों का स्मरण भी किया।

इंडोनेशियाई राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन बोर्ड (बीएनपीबी) के प्रवक्ता सुतोपो पुरवो नुगरोहो ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि, शनिवार रात को आई आपदा के कारण लापता लोगों की संख्या बढ़ कर 159 हो गई है जबकि 1,495 लोग घायल हुए हैं। सुतोपो ने कहा, जावा द्वीप के पश्चिमी तट पर स्थित गंभीर रूप से प्रभावित पांडेगलांग में 290 लोगों की मौत हुई, 1,143 लोग घायल हुए हैं और 77 लोग लापता है। इसके अतिरिक्त आपदा से 17,477 लोग प्रभावित हुए हैं।सुंडा स्ट्रेट पर एनाक क्राकाटोओ ज्वालामुखी में विस्फोट के बाद आई सुनामी ने इंडोनेशिया के जावा और सुमात्रा द्वीप में शनिवार देर रात तबाही मचाई।

इसकी पहले से कोई चेतावनी जारी नहीं हुई थी। पश्चिमी तट और सुमात्रा द्वीप के दक्षिणी हिस्सों में खराब मौसम स्थिति से मानवीय सहायता व बचाव दलों के लिए हालात मुश्किल होते जा रहे हैं। सुतोपो ने ट्वीट कर कहा कि भारी बारिश के कारण पांडेगलांग के कई इलाकों में बाढ़ आ गई है और बचाव अभियान बाधित हुआ है।इंडोनेशिया के मौसम विभाग ने एक अलर्ट जारी कर लोगों को तटों से दूर रहने का आग्रह किया है। विभाग ने तेज लहरें आने की चेतावनी दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here