विद्या भारती का सेवा अभियान

0
250

डॉ दिलीप अग्निहोत्री

विद्याभारती अपनी निःस्वार्थ समाज सेवा के लिए विख्यात है। इसके माध्यम से नगर की निर्धन बस्तियों से लेकर सुदूर वनवासी क्षेत्रों तक शिक्षा का प्रसार किया जा रहा है। आपदा के समय विद्या भारती सेवा कार्यों में अपनी ऊर्जा लगा देती है। इस समय कोरोना आपदा राहत का व्यापक अभियान संचालित हो रहा है।

विद्या भारती ने प्रधानमंत्री केयर फंड में कुल 21,59,483 रूपए दिए है। पूर्वी उत्तर प्रदेश में 432 स्थानों पर 18,583 लोगों को सर्वाईवल किट का वितरण किया। 376 स्थानों पर 72,509 लोगों को पका हुआ भोजन वितरित किया गया। 74 स्थानों पर 1,781 जरूरतमंदों को जरूरी दवाएं वितरित की गईं। 239 स्थानों पर 34,473 लोगों को मास्क का वितरण किया गया।

193 स्थानों पर 13,500 लोगों को सौनेटाइजर का वितरण किया।120 स्थानों पर 1,995 पशुपालकों, जीव प्रेमियों को पशु आहार दिया गया। कोरोना जागरूकता अभियान में 2,399 स्थानों पर 41,241 लोगों को जागरूक किया गया।
राज्य सरकार को क्वैरेन्टाइन और आईसोलेशन सेंटर के लिए विद्यालय परिसर दिया। लखनऊ में 25 बेड का द्त्तोपंत ठेंगड़ी आईसोलेशन सेंटर बनाकर सीमओ को दिया केजीएमयू में दत्तोपंत ठेंगड़ी क्वैरेन्टाइन सेवा केंद्र का नियमित संचालन जारी है। लॉकडाउन के दौरान देश में 25,000 विद्यालयों के माध्यम से सेवा कार्य किया जा रहा है।

 

विद्या भारती के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री यतीन्द्र के अनुसार लोगों के स्वास्थ्य भोजन व सुरक्षा विद्या भारती के आचार्य,स्वयंसेवक और सहयोगी संगठन योगदान कर रहे हैं। देश के प्रत्येक क्षेत्रो में जनसेवा का कार्य अनवरत चल रहा है। जिसमें विद्या भारती की विभिन्न ईकाईयां पूरी तरह लगी हुई हैं। इसमें गोरक्ष प्रान्त,काशी प्रान्त और कानपुर प्रान्त की शिशु शिक्षा समीति, जन शिक्षा समीति, भारतीय शिक्षा समीतियां विभिन्न सेवा कार्य का संचालन कर रही हैं। विद्या भारती पूर्वी उत्तर प्रदेश क्षेत्र के संगठन मंत्री हेम चन्द्र ने बताया कि पूर्वी उत्तर प्रदेश में कुल 1100 से अधिक विद्यालय संचालित हैं।

 

पूर्वी उत्तर प्रदेश में विद्या भारती के विभिन्न केन्द्रों, कार्यालयों विभिन्न जिलों में फंसे हुए जरूरतमंद लोगों के साथ ही निराश्रित और झुग्गी बस्तियों, श्रमिकों और गरीबों को भोजन वितरण किया जा रहा है। केन्द्र और राज्य सरकार के साथ विभिन्न सामाजिक संगठन राहत कार्यों में लगे हैं, ऐसे में बड़े पैमाने पर बेसहारा जीव जन्तुओं के लिए भी यह महामारी बड़े संकट का कारक बनी है, विद्या भारती ने ऐसे जीवों के लिए पशु आहार वितरण की व्यवस्था सवा सौ स्थानों पर की है। भारत सरकार  स्वास्थ्य मंत्रालय और राज्य सरकार के साथ ही स्थानीय प्रशासन के द्वारा दिए जाने वाले दिशा निर्देशों का अनुपालन करने के प्रति जन सामान्य को प्रेरित और प्रोत्साहित किया गया। लॉकडाउन की अवधि में विद्या भारती के आचार्यों के साथ स्वयंसेवक संस्कार केन्द्रों के माध्यम से सेवा कार्यों में विशेष योगदान दे रहे हैं।

विद्या भारती ने अपने विद्यालयों को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर क्वैरेन्टाइन सेंटर बनाए जाने या आपदा से निपटने के लिए दिया । राज्य सरकार या स्थानीय प्रशासन जिस प्रकार से जरूरत हो विद्याल परिसर का उपयोग कर सकते हैं। लखनऊ में निराला नगर स्थित माधव सभागार सहित विभिन्न कक्षों को लखनऊ के सीएमओ डॉ. नरेन्द्र अग्रवाल की निर्देशों के अनुरूप पच्चीस बेड का क्वैरेन्टाइन और आइसोलेशन वार्ड उपलब्ध करवाया गया है।

 

किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के शताब्दी हॉस्पिटल के नजदीक पावर ग्रिड विश्राम सदन में अड़तालीस बेड का द्त्तोपंत ठेंगड़ी क्वैरेन्टाइन और सेवा केंद्र का संचालन किया जा रहा है, जिससे आम जन के साथ ही कोरोना वॉरियर्स की भी उचित देखभाल का कार्य किया जा रहा है। विद्या भारती पूर्वी उत्तर प्रदेश के क्षेत्र प्रचार प्रमुख सौरभ मिश्र ने बताया कि विद्या भारती के पूरे देश में पच्चीस हजार से अधिक विद्यालय, एकल विद्यालय, संस्कार केन्द्र संचालित हैं। विद्या भारती ने भारतीय शिक्षा पद्धति के साथ संस्कार आधारित शिक्षा पर हमेशा से जोर दिया है, विद्या भारती का लक्ष्य श्रेष्ठ नागरिकों के निर्माण के साथ ही भारत की ऐसी युवा शक्ति का निर्माण है, जो समाज में पूरे समर्पण के साथ भागीदारी करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here