वर्चुअल पिंक रन के जरिये पटना में ब्रेस्‍ट कैंसर को लेकर चलाया गया जागरूकता अभियान

0
283

पटना, 11 अक्‍टूबर 2020 : राजधानी पटना में पहली बार ब्रेस्‍ट कैंसर के प्रति अवयेरनेस को लेकर आज वर्चुअल पिंक रन का आयोजन किया गया, जिसमें देश भर के कई जानेमाने डॉक्‍टर शामिल हुए। सवेरा कैंसर अस्पताल के तत्वधान में कोविड-19 के वैश्विक महामारी के कारण इस वर्ष इसे वर्चुअल प्लेटफार्म पर मनाया गया, जहां देश – विदेश से लाखों की संख्या में लोगो ने गूगल मीट और सवेरा फेसबुक पेज के माध्यम से इसमें हिस्सा लिया।

इस दौरान  कार्यक्रम को संबोधित करते हुए डॉ पी रघु राम (ASI President) ने ब्रेस्‍ट कैंसर के कारणों की चर्चा की और बताया कि जल्द माहवारी के आना तथा देर से महावारी (50 वर्ष) समाप्त होना, स्तन पान नहीं करवाना, लंबे समय तक गर्व निरोधक गोलियों का सेवन करना, धूम्रपान, मदिरा पान इसके प्रमुख कारण है। डॉ दीपतेन्द्र सरकार वरीय कैंसर सर्जन (कोलकत्ता) ने बताया कि मैमोग्राफी, अल्ट्रासाउंड, FNAC की भूमिका कैंसर डायग्नोसिस में अहम है।

वहीं, प. बंगाल की वरीय कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ मधु छन्दकार ने केमोथेरेपी की उपयोगिता तथा चिकित्सा के दौरान किए जाने वाले परहेज एवं अन्य सहयकारी विधियों जैसे योग, ध्यान, आदि भी अपने जीवन शैली में शामिल करने की सलाह दी। कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए ब्रिटेन के जाने माने कैंसर सर्जन डॉ ऋषिकेश परमेश्वर ने कैंसर के आधुनिक चिकित्सा के तकनीको की विस्तृत जानकारी लोगो मे साझा की।

इससे पहले कार्यक्रम की शुरूआत मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉ नीता झा ने आकड़ों के हवाले से बताया कि कैंसर के मरीज़ों की संख्या की 30% महिलाएं ब्रेस्ट कैंसर से ग्रसित है,जबकि भारत में शहरी क्षेत्रों में 30% और ग्रामीण क्षेत्रों में 25% महिलायें स्तन कैंसर से ग्रसित है। बिहार राज्य की स्थिति कैंसर के कुल मरीज़ों की संख्या में, शहरी औऱ ग्रामीण दोनो क्षेत्रों में स्तन कैंसर के मरीज़ों की संख्या 25% है। कैंसर में जागरुकता की कमी होने के कारण ज्यादातर मरीज़ कैंसर के दूसरे तीसरे स्टेज में आते है।

कार्यक्रम के दौरान दक्षिण भारत के वरीय कैंसर रोग विशेषज्ञ प्रो0 सोम शेखर एसपी ने कैंसररोग के विभिन्न और इसके दुष्परिणामों पर विस्तार पर चर्चा किया। कार्यक्रम में कैंसर की स्क्रीनिग के विभिन्न पद्धतियों पर विस्तार पूर्वक चर्चा करते हुए AIIMS PATNA रेडिएशन ऑनकोलॉजी विभाग के प्रमुख डॉ प्रियतांजली सिंह ने मत्वपूर्ण सुझाव दिए तथा स्वतः स्थण परिक्षण की सलाह दी।

कार्यक्रम में देश के वरीय चिकित्सको की श्रेणी में शामिल पदमश्री डॉ आर एन सिंह ने दशको से चली आ रही चिकित्सा सम्बन्धी समस्यायों कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी के विभिन्न पहलुओं परिवार एवम समाज पर इसके आर्थिक और मानसिक दुष्प्रभावो को साझा किया साथ ही कैंसर के विरुद्ध जागरूकता अभियान के नियमित आयोजन पर शामिल हुए। कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ वी पी सिंह कार्यक्रम में शामिल विभिन्न लोगो के प्रश्नों को कार्यक्रम में शामिल विशेषज्ञों से साझा किया तथा इनके विभिन्न पहलुओं की समीक्षा की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here