पाक, नेपाल और चीन के खतरनाक मंसूबें नहीं होंगें कामयाब

0
305

एक तरफ पाक है तो दूसरी तरफ चीन और नेपाल

पाकिस्तान से तो वैसे भी भारत के प्रति किसी सद्भावना की आशा करना व्यर्थ ही है लेकिन कभी-कभी वह उससे भी आगे निकल जाता है और तब उसका असली रूप भी सामने आ जाता है। सोमवार को पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग स्थित दो कर्मचारियों को पहले गायब किया गया और जब भारत ने दबाव बनाया तब दोनों को छोड़ा गया।

बताया तो यह भी जाता है कि भारतीय उच्चायोग के कर्मचारियों को पिछले एक हफ्ते से परेशान किया जा रहा था। कुछ अधिकारियों के वाहन का बहुत खतरनाक ढंग से पीछा भी किया गया। दरअसल दिल्ली में पाकिस्तान उच्चायोग के दो अधिकारियों को जासूसी करते रंगे हाथ पकड़े जाने के बाद से ही इस बात की आशंका थी कि पाकिस्तान सरकार बदले में कुछ न कुछ उल्टा काम करेगी। यह आशंका सच ही निकली।

file photoपाक का यह भी एक हथियार है कि जब किसी संदर्भ में दोष सामने आ जाय तो राजनय से जुड़े भारतीयों पर उलूल-जुलूल आरोप लगाकर उनको तंग किया जाय। उसकी यह नीति कई बार सामने आ चुकी है, हालांकि ऐसे मामलों में उसको गच्चा ही खाना पड़ा है। कुलभूषण जाधव का मामला इसी ढंग का है जब मनगढंत आरोप लगाकर उनको कैद कर लिया गया और अब सजा का ढोंग किया जा रहा है। यह मामला अन्तर्राष्ट्रीय न्यायालय तक में है जहां पाक बेनकाब हुआ है। ऐसे में समस्या यह उठती है कि आखिर ऐसे मामलों में क्या किया जा सकता है।

केवल झूठे आरोप लगाकर ही सजा देने की मनमानी के खिलाफ क्या कदम उठाए जा सकते हैं। इस मामले में अंतर्राष्ट्रीय जनमत को भी देखना होगा कि ऐसे प्रकरण किस कोटि में आने चाहिए। कूटनीतिक मामलों से जुड़ी सेवाओं के लोगों को तमाम विशेषाधिकार भी होते हैं। उन सभी की अनदेखी करना खुद में किसी अपराध से कम नहीं है।

पाकिस्तान वैसे भी किसी नियम की अनदेखी करता रहता है व बदले में शोर स्वयं के पीड़ित होने का मचाता है और यह उसकी पुरानी आदत है लेकिन अब इस पर लगाम लगाने के लिये कदम उठाए जाने होंगे।

बता दें कि दुनिया इस समय कोरोना आपदा से सामना कर रही है। इससे मानवता को बचाना ही सबसे बड़ी समस्या है। लेकिन यह तथ्य चीन और पाकिस्तान नेपाल जैसे हिंसक प्रवत्ति के देशों के लिए कोई महत्व नहीं रखता। इस समय भी वह भारतीय सीमा पर युद्ध का माहौल बनाने में लगे है। नेपाल की कम्युनिस्ट सरकार भी चीन के इशारे पर नाच रही है। यह सभी देश भारत के खिलाफ को षड़यंत्र रच रहे हैं लेकिन वास्तव में पाक, नेपाल और चीन के खतरनाक मंसूबें भटट के बुलंद हौसले कामयाब नहीं होंगें देंगे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here