फिसलती जुबानों पर राजनीति

3
1630
राहुल गांधी की ज़ुबान फिसल गई, राजस्थान में चुनाव प्रचार के दौरान कुंभाराम को कुंभकरण कह गए। मज़ाक बनना लाज़िमी था। राहुल गांधी पप्पू हैं, यह कहने  वालों को एक मौका और मिल गया। अब महामहिम मोदी जी कहां ऐसा मौक़ा चूकने वाले थे। प्रचार के आखिरी दिन चुनाव सभा में चुटकी ले ही ली। मीडिया ने भी उछाल दिया। कहा-राहुल ने फिर सेल्फ गोल कर दिया।
मोदी जी और उनके प्रिय मीडिया दोनों को जानी राजकुमार का अमर डायलॉग याद दिलाने की ज़रूरत है- चिनाय सेठ, जिनके घर शीशे के हों, वो दूसरों पे पत्थर नहीं फेंका करते।
जिन्होंने गुरु नानक, गुरु गोरखनाथ और कबीरदास जी की मीटिंग करवा दी हो, सिकंदर से लेकर तक्षशिला तक इतिहास को उलट-पलट दिया हो, वह दूसरों के युग बोध पर चुटकी लेते हैं तो यह देसी कहावत याद आ जाती है- सूप तो सूप, चलनी बोले जामें बहत्तर छेद‌।
– अमिताभ श्रीवास्तव

3 COMMENTS

  1. I have been browsing online more than 3 hours these days, yet I by no means found any interesting article
    like yours. It’s pretty value sufficient for me.
    In my opinion, if all website owners and bloggers made
    good content as you probably did, the net will likely be much more helpful than ever before.
    Whoa! This blog looks just like my old one!
    It’s on a totally different subject but it has pretty much the same page layout and design. Great choice of colors!
    I’ve been browsing on-line more than three hours as of late,
    but I by no means found any attention-grabbing article
    like yours. It’s pretty worth sufficient for me. Personally, if all
    webmasters and bloggers made good content material as you probably did, the internet might be
    a lot more helpful than ever before. http://foxnews.co.uk/

  2. Terrific article! This is the type of information that are supposed to be shared around the internet.

    Disgrace on the search engines for no longer positioning
    this submit upper! Come on over and discuss with my
    website . Thanks =)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here