बेहतर व्यवस्था का संकल्प

0
189
Spread the love

डॉ दिलीप अग्निहोत्री

योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री पद संभालने के बाद कानून व्यवस्था को अपनी सर्वोच्च प्राथमिकता बताया था। उनका मानना था कि ऐसे उपयुक्त माहौल में ही विकास को गति मिलती है। आमजन में सुरक्षा का बोध होना चाहिए। ऐसे ही राज्य को निवेशक प्राथमिकता देते है। इसी के मद्देनजर योगी आदित्यनाथ ने अनेक कदम उठाए। पुलिस स्मृति दिवस पर योगी आदित्यनाथ ने अपने इन्हीं विचारों को साझा किया। ढाई वर्षों में व्यवथा बदलने का कार्य हुआ। प्रयागराज कुम्भ, प्रवासी सम्मेलन का सफल आयोजन हुआ। इसी के साथ सर्वाधिक पुलिस कर्मियों को पदोन्नति का लाभ दिया गया।

पुलिस स्मृति दिवस पर मुख्यमंत्री ने शहीद पुलिसकर्मियों के परिजनों को आश्वस्त किया कि राज्य सरकार उन्हें हर सम्भव सहायता उपलब्ध करायेगी। इस वर्ष गणतन्त्र एवं स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर सौ पुलिसकर्मियों को उत्कृष्ट सेवा सम्मान चिन्ह तथा चार सौ पुलिस कर्मियों को सराहनीय सेवा सम्मान चिन्ह से सम्मानित किया गया है। एक हजार अड़तालीस राजपत्रित व अराजपत्रित पुलिस कार्मिकों को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से पुलिस महानिदेशक के प्रशंसा चिन्ह दिया गया। विशिष्ट सेवाओं के लिए आठ अधिकारियों कर्मचारियों को राष्ट्रपति ने पुलिस पदक से,एक सौ उनतीस अराजपत्रित पुलिस अधिकारियों कर्मचारियों को सराहनीय सेवाओं के लिए पुलिस पदक’ एवं पांच राजपत्रित व अराजपत्रित अधिकारियो कर्मचारियों को मुख्यमंत्री के ‘उत्कृष्ट पुलिस सेवा पदक’ से सम्मानित किया गया है।

राज्य सरकार ने प्रदेश पुलिस के मनोबल, कार्यकुशलता एवं व्यवसायिक दक्षता को बढ़ाने के उद्देश्य से ऐतिहासिक कदम उठाए हैं। विगत एक वर्ष में पुलिस के अराजपत्रित स्तर के विभिन्न पदों पर अठ्ठाइस हजार से अधिक कर्मियों को पदोन्नति प्रदान की गई है। पुलिस कार्मिकों को इतनी संख्या में प्रोन्नति प्रदान किया जाना एक रिकाॅर्ड है।विभिन्न पदों पर करीब अस्सी हजार व्यक्तियों को सेवायोजन प्रदान किया गया है। वर्तमान में पलिस बल में आरक्षी एवं समकक्ष तथा उपनिरीक्षक प्लाटून कमाण्डर एवं उसके समकक्ष इकसठ हजार से अधिक पदों पर सीधी भर्ती की प्रक्रिया प्रचलित है।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश में कानून एवं व्यवस्था सुदृढ़ कर जनमानस में सुरक्षा की भावना पैदा करना और अपराधियों में कानून का भय व्याप्त करना, हमारी सरकार की प्रमुख नीति है। इस हेतु प्रदेश के विभिन्न जनपदों में उतालिस नए थानों एवं पन्द्रह नई चैकियों की स्थापना की गयी है। प्रदेश पुलिस के समक्ष कानून-व्यवस्था की अनेक समस्याएं आयीं, जिन्हें एक चुनौती के रूप में स्वीकार करते हुए तत्काल व्यापक सुरक्षात्मक उपाय किए गए। राज्य सरकार द्वारा अपराध एवं अपराधियों के विरुद्ध जीरो टाॅलरेंस की नीति अपनाई गई है। वर्तमान में प्रदेश में कोई ऐसा संगठित अपराधी नहीं है, जो जेल के बाहर स्वच्छंद रूप से विचरण कर रहा हो। ऐसे अपराधियों को या तो जेल भेज दिया गया है या गिरफ्तारी के दौरान वे पुलिस की आत्मरक्षार्थ कार्रवाई में मारे गए हैं। इन कार्रवाइयों के दौरान पुलिस के पांच जवान अद्भुत शौर्य का प्रदर्शन करते हुए वीरगति को प्राप्त हुए तथा सात सौ बावन पुलिसकर्मी घायल हुए हैं।

पुलिस की इन कार्रवाइयों से सभी वर्गों विशेषकर व्यापारियों, महिलाओं, बालिकाओं आदि में सुरक्षा की भावना व्यापक रूप से सुदृढ़ हुई है। प्रदेश पुलिस की उच्चकोटि के पर्यवेक्षण, कुशल रणनीति, सुविचारित पुलिस प्रबन्धन एवं उन्नत तकनीकी प्रणाली के परिणामस्वरूप विश्व का सबसे विशाल जनसंकुल प्रयागराज कुम्भ निर्विघ्न एवं सकुशल सम्पन्न हुआ, जिसकी विश्व पटल पर सराहना की गयी। इसी प्रकार, वाराणसी में पन्द्रहवां प्रवासी भारतीय दिवस एवं लोकतंत्र का महापर्व लोकसभा आम चुनाव भी शान्तिपूर्ण एवं निर्विघ्न रूप से सम्पन्न कराया गया। प्रदेश में सभी प्रमुख पर्व, त्योहार, मेले और अन्य धार्मिक आयोजन भी सकुशल सम्पन्न हुए। इस प्रकार के विशिष्ट एवं महत्वपूर्ण आयोजनों को सफलतापूर्वक सम्पन्न कराकर प्रदेश पुलिस ने अपनी क्षमता का प्रदर्शन किया।

महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा एवं उनके सशक्तिकरण हेतु एण्टी रोमियो स्क्वाॅड का गठन कर अनवरत अभियान चलाया जा रहा है। इससे पहली बार प्रदेश में महिलाओं विशेषकर छात्राओं में आत्मविश्वास एवं सुरक्षा की भावना सुदृढ़ हुई है। प्रत्येक थाना क्षेत्र में प्रतिदिन एक घण्टा नियमित रूप से फुट पेट्रोलिंग अभियान चलाया जा रहा है। इस कार्यवाही से अपराध में न सिर्फ कमी आयी है, बल्कि आमजन का पुलिस के प्रति भरोसा और सुदृढ़ हुआ है। संगठित व आर्थिक अपराधों पर प्रभावी नियंत्रण के साथ ही, परीक्षाओं की शुचिता भी सुनिश्चित की गई है।आतंकवादी संगठनों के विरुद्ध विभिन्न एजेन्सियों के साथ निरन्तर समन्वय से कार्यवाई की गई। इन संगठनों के स्लीपिंग माॅड्यूल को भी ध्वस्त कर दिया। फलस्वरूप वर्तमान सरकार के कार्यकाल में राज्य में कोई भी आतंकी घटना घटित नहीं हुई है।

योगी ने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य में साम्प्रदायिक सद्भाव अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए संकल्पबद्ध है। इसके निमित्त पुलिस एवं प्रशासन सामाजिक समरसता बनाये रखने हेतु क्रियाशील है। इससे समाज के सभी वर्गों में आपसी विश्वास, भाईचारे एवं कानून के प्रति सम्मान का भाव बढ़ा है। महिला सशक्तिकरण हेतु पावर एजेन्ट योजना शुरू की गयी है। मुख्यमंत्री ने आशा व्यक्त की कि भविष्य में भी प्रदेश पुलिस के सभी सदस्य पूरी ईमानदारी, कर्तव्य परायणता तथा जनसेवा की भावना से कार्य करते हुए, उत्तर प्रदेश की जनता के मन में सुरक्षा की भावना को और अधिक सुदृढ़ करने में सहयोग करेंगे।।कार्यक्रम के दौरान उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा, मुख्य सचिव आर के तिवारी, अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी, पुलिस महानिदेशक ओ पी सिंह तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी और बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here