69 हजार टीचरों की भर्ती का मामला पहुंचा कोर्ट में, 28 मई को फिर सुनवाई

0
1912

प्रयागराज, 23 मई, 2020: 69 हजार अध्यापकों की भर्ती परिणाम की उत्तर कुंजी घोषित होने के बाद कई सवालो के गलत जवाब तो कई कार्यालय के कोर्स से बाहर का होने से उत्पन्न विसंगतियों को लेकर हजारों अभ्यर्थियों ने हाईकोर्ट की शरण ली है। दर्जनों वकीलों ने अर्जेन्सी अर्जी देकर याचिका दायर करने और तत्काल सुनवाई की मांग की है।

बता दें की ऐसी ही रोहित शुक्ल व 110 अभ्यर्थियों की एक अर्जी को स्वीकार करते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति विवेक वर्मा ने राज्य सरकार से जानकारी मांगी है और याचिका को सुनवाई के लिए 28 मई को पेश करने का आदेश दिया है। वही तमाम अधिवक्ताओं की अर्जियो को सुनवाई से इंकार करते हुए निरस्त कर दिया गया है।

लखनऊ पीठ ने भी ऋषभ मिश्र व अन्य की याचिका पर सरकार से जानकारी उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है और 28 मई को सुनवाई के लिए पेश करने का आदेश दिया है। वरिष्ठ अधिवक्ता आर के ओझा, के पी शुक्ल, संतोष कुमार त्रिपाठी, ऋतेश श्रीवास्तव, सीमान्त सिंह सहित कई अधिवक्ताओं की पूर्व से दायर याचिका पर सुनवाई न हो सकने पर असंतोष जाहिर की है। इसके लिए हाईकोर्ट की रजिस्ट्री को जिम्मेदार ठहराया है। महानिबंधक कार्यालय के इस रवैये से नाराजगी जाहिर की है और कहा है कि यह न्यायिक मानदंडों एवं न्यायिक एकरूपता के सिद्धांतों के खिलाफहै। इन अधिवक्ताओं को याचिका दाखिल न कर पाने के कारण वादकारियों की नाराजगी झेलनी पड़े रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here