निर्भया के नाम पर बलिया में बनेगा महाविद्यालय: खेल मंत्री

0
202

बेटियों की आवाज बना गड़हा महोत्सव का मंच

पंकज राय

बलिया, 08 दिसम्बर 2019: यूपी-बिहार के बार्डर पर भरौली में पवित्र गंगा तट पर गड़हा महोत्सव का मंच बेटियों के खिलाफ हालिया बढ़े अत्याचारों के विरूद्ध आवाज भी बनकर उभरा। सूबे के खेल मंत्री उपेन्द्र तिवारी ने महिलाओं के विरूद्ध हो रहे अपराधों पर लगाम लगाने की भाजपा सरकार की प्रतिबद्धता दोहरायी। गड़हा महोत्सव के मंच से कहा कि निर्भया के नाम पर उसके पैतृक गांव में जल्द ही एक महाविद्यालय खोला जाएगा।

गड़हा महोत्सव के दौरान बेटियों की शादी के बीच सांस्कृतिक आयोजन में देररात बेटियों के विरुद्ध बढ़ते जा रहे अपराध पर सबका ध्यान तब आकर्षित हुआ जब खेल राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) उपेन्द्र तिवारी ने अपने भाषण के क्रम में कहा कि निर्भया हो, हैदराबाद की घटना हो या उन्नाव की घटना हो, हमारी सरकार में अपराधियों का स्थान ‘ऊपर’ है।
उन्होंने कहा कि महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराध पर भाजपा सरकार कड़ाई से पेश आ रही है। मंत्री ने कहा कि निर्भया के गांव में महाविद्यालय जल्द शुरू करने के लिए मुख्यमंत्री जी से बात हुई है। शीघ्र ही निर्भया के नाम पर महाविद्यालय स्थापित होगा। शीघ्र ही सर्वे कराकर इसमें प्रगति लायी जाएगी।

सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त ने भी कहा कि बेटियां घर की पहचान होती हैं। इनकी सुरक्षा पूरे समाज की सुरक्षा है। उन्होंने कहा कि बेटियों के लिए केंद्र सरकार समर्पित है।

यही नहीं भरौली में शनिवार रात करीब आठ बजे महोत्सव के मंच पर पहुंची सुप्रसिद्ध भोजपुरी अभिनेत्री व गायिका अक्षरा के लटके-झटके देखने के लिए दर्शक काफी देर से उत्सुक थे। लेकिन पिछले कुछ दिनों में हैदराबाद और उन्नाव की घटना को लेकर अक्षरा का भी दर्द छलक गया। जिसे उन्होंने अपने गीतों के जरिए जाहिर किया।

भोजपुरी गायिका अक्षरा ने ‘ना निर्भया बनी अब कवनो बेटी, हम निशाचर के काट देब बोटी-बोटी के जरिए वर्तमान में बेटियों पर हो रहे जुल्म के खिलाफ आवाज उठायी। अपने जोशीले भाषण से भी अक्षरा ने महिलाओं की आवाज बुलंद की। इसके बाद अक्षरा ने ‘बाबा हो बाबा पुकारिंला बाबा ना बोलेले हो… गया तो महौल ठहर सा गया।

आयोजक गायक गोपाल राय ने भी बेटियों पर गीत प्रस्तुत किया। उद्घोषक विजय बहादुर सिंह ने भी महिला हिंसा पर आवाज बुलंद की। गायक भरत शर्मा ‘ब्यास’ का गीत भी महिलाओं की सशक्त आवाज बनकर गूंजा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here