तापमान गिरने के साथ ही दिल्ली में बढ़ा प्रदूषण का स्तर

0
193

नई दिल्ली 02 नवंबर। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में वायु प्रदूषण पर लगाम लगाने के उद्देश्य से सुप्रीम कोर्ट ने दीपावली पर पटाखों की बिक्री प्रतिबंधित कर दी थी। अदालत के इस कदम का मामूली असर ही देखने को मिला। सर्दियों की आमद के साथ ही राष्ट्रीय राजधानी के आसमान में धुंध की चादर नजर आने लगी है। जैसे-जैसे तापमान गिर रहा है वैसे-वैसे दिल्ली के वातावरण में प्रदूषण का स्तर भी बढ़ रहा है।

ग्रेडेड रेस्पांस ऐक्शन प्लान लागू होने के बावजूद बुधवार की सुबह दिल्ली के कई इलाकों में वायु की गुणवत्ता अति निम्न से गम्भीर कैटेगरी तक पहुंच गई। ईपीसीए के रियल टाइम एयर क्वालिटी इंडेक्स के मुताबिक सुबह 10 बजे आनंद विहार इलाके में पीएम 2.5 सामान्य से 7 गुना ज्यादा दर्ज किया गया। आनंद विहार में पीएम 2.5 का स्तर 420 तक पहुंच गया, वहीं पेड़-पौधों से हरा भरा लोधी रोड इलाका भी गम्भीर प्रदूषण की चपेट में है।
सुबह 10 बजे लोधी रोड इलाके में पीएम 2.5 का स्तर 401 रिकॉर्ड किया गया। राजधानी का सबसे व्यस्त चौराहा आईटीओ भी वायु की गुणवत्ता के लिहाज से खतरनाक हो चुका है। आईटीओ पर पीएम 2.5 का स्तर 421 माइक्रोग्राम दर्ज किया गया। पंजाबी बाग में भी हालात ठीक नहीं हैं। यहां भी हवा में प्रदूषण तेजी से बढ़ा है और पीएम 2.5 का स्तर 403 तक पहुच चुका है। आरके पुरम जैसे पॉश इलाके में भी पीएम 2.5 का स्तर 408 माइक्रोग्राम दर्ज किया गया।

हालांकि पूसा रोड, दिल्ली विश्वविद्यालय, मंदिर मार्ग, मथुरा रोड, आईजीआई एयरपोर्ट जैसे बाहरी इलाकों में पीएम 2.5 अभी अति निम्न स्तर पर ही है। जिस तेजी से मौसम बदल रहा है, तापमान गिर रहा है, उतनी ही तेजी से हवा में प्रदूषकों की मात्रा बढ़ रही है। लिहाजा ईपीसीए को डर है कि कहीं जल्द ही इन इलाकों में भी एयर क्वालिटी इंडेक्स अतिनिम्न से गम्भीर कैटेगरी में न पहुंच जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here