सरेराह छेड़खानी कर रहे शोहदों को भीड़ ने पीटा

0

स्कूल से छुट्टी होने के बाद बेटी को घर छोड़ने जा रहा था सिपाही, हौसला बुलंद शोहदों ने कसनी शुरु की फब्तियां तो भीड़ ने सबक सिखाने के बाद किया पुलिस के हवाले


लखनऊ 11 सितम्बर। गाजीपुर इलाके में शोहदों के हौसले बुलंद है। इसकी नजीर इन लोगों ने सोमवार को तब पेश कि जब एक सिपाही अपनी बेटी को घर छोड़ने जा रहा था। बीच सड़क पर गाड़ी रोंककर खड़े शोहदे से सिपाही की बाइक टकरा गई तो शोहदे मारपीट पर उतारा होने के साथ ही पीछे बैठी उसकी बेटी पर फब्तियां कसने लगे। सिपाही को उनसे भिड़ता देख आसपास के लोग वहां इकट्ठा हो गए और शोहदों को पकड़ कर पीटना शुरु कर दिया। बाद में कंट्रोल रूम फोन कर उन्हे पुलिस को हवाले कर दिया।

गाजीपुर के सर्वोदय नगर के रहने वाले रितेश, गौरव व फैजल इलाके में एक जगह अपना अड्डा बनाये हुए है। वहां रहने वाले लोगों ने बताया ये शोहदे अक्सर आने- जाने वाली लड़कियों को छेड़ते है। अगर कोई विरोध करे तो मारपीट पर उतारू हो जाते है। सोमवार दोपहर गाजीपुर में ही तैनात एक सिपाही अपनी बच्ची को स्कूल से घर छोड़ने जा रहा था। रास्ते में रितेश व गौरव बाइक लगाकर खड़े थे। सिपाही ने हॉर्न दिया तब भी शोहदों ने गाड़ी नही हटाई। इस पर सिपाही ने थोड़ा गाड़ी आगे बड़ाई तो रितेश की गाड़ी से छू गयी। बस इतने में रितेश और गौरव मारपीट पर उतर आए। इतने में शोहदों की नजर गाड़ी पर पीछे बैठी उनकी बेटी पर पड़ी तो पिता के सामने ही बेटी पर फ ब्तियां कसने लगे। सिपाही ने विरोध किया तो रितेश ने उसे गाली दी और गौरव ने बेल्ट निकालकर सिपाही को मारने का प्रयास किया। हालांकि तब तक आसपास के लोग इकट्ठा हो गए और शोहदों को दबोच लिया। दबोचने के बाद लोगों ने शोहदों की जमकर धुनाई करते हुए 100 नंबर पर सूचना दी। मौके पर पहुंची पीआरवी उन्हें लेकर थाने चली गयी। गाजीपुर पुलिस का कहना है कि आगे की कार्रवाई की जा रही है। इलाकाई लोगो ने बताया कि रितेश, गौरव व उनका एक साथी फैजल नशे के आदी है और दिन भर इलाके में नशा करते है व आने जाने वाली लड़कियों को छेड़ते थे।