गुजरात सरकार को मिला सिनेमाघर मालिकों का साथ, पद्मावत नहीं दिखाने का फैसला

0
374

करणी सेना के नेता लोकेंन्द्र सिंह ने दी धमकी
अहमदाबाद । देश में इन दिनों संजय लीला भंसाली की मूवी पद्मावत को लेकर जंग जारी है। वहीं इस पूरे मामले में गुजरात के उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने बुधवार कहा कि राज्य में ज्यादातर सिनेमाघर मालिकों ने स्वेच्छा से विवादास्पद बॉलीवुड फिल्म पद्मावत नहीं दिखाने का फैसला किया है। उन्होंने जोर दिया कि राज्य सरकार कानून व्यवस्था कायम रखने के लिये अपनी तरफ से सर्वश्रेष्ठ प्रयास कर रही है। उपमुख्यमंत्री का बयान करणी सेना के नेता लोकेंद्र सिंह कालवी के परोक्ष रूप से धमकी के बाद आया है जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर जोरदार विरोध के बावजूद बॉलीवुड फिल्म का प्रदर्शन किया गया तो हिंसा हो सकती है।
पटेल ने कहा,उच्चतम न्यायालय की ओर से हरी झंडी मिलने के बावजूद ज्यादातर सिनेमाघरों ने फिल्म दिखाने से मना कर दिया है। उन लोगों ने यह फैसला स्वेच्छा से किया है। राज्य सरकार प्रदेश में कानून व्यवस्था कायम रखने के लिये अपनी तरफ से सर्वश्रेष्ठ प्रयास कर रही है। महात्मा गांधी की जन्मस्थली पोरबंदर में कालवी ने कहा कि जब विभिन्न क्षेत्रों के ढेर सारे लोग फिल्म के खिलाफ हैं तो अगर 25 जनवरी को यह रिलीज होती है तो यह हम सभी का अपमान होगा।
उन्होंने कहा,मैं महात्मा गांधी के अहिंसा के सिद्धांतों का सम्मान करता हूं। मैं भी मानता हूं कि अहिंसा बिल्कुल जरूरी है। इसलिए हम हिंसा का रास्ता चुनने के लिये मजबूर नहीं करें। गुजरात में बुधवार को फिल्म के खिलाफ कोई हिंसक प्रदर्शन नहीं हुआ। सूरत पुलिस ने 19 और लोगों को दो दिन पहले शहर में फिल्म के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन करने के आरोप में गिरफ्तार किया। इसके साथ ही गिरफ्तार लोगों की संख्या बढ़कर 42 हो गई है।सूरत में 21 जनवरी को हिंसक प्रदर्शन देखने को मिला था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here