वह गौरव का क्षण था जब अमिताभ बच्चन ने कहा था, मैं तुम्हारा बहुत बड़ा फैन हूं- हार्दिक पांड्या

0
579

मंसूर आलम लखनऊ से

बड़ौदा के आॅलराउंडर, मुंबई इंडियंस के ‘रॉकस्टार’ और अब भारत के प्रमुख आॅलराउंडर- हार्दिक पांड्या वीडियो आॅन डिमांड सर्विस वीयू पर व्हाट दि डक सीजन 2 एपिसोड में दिखाई देंगे। इस आकर्षक आॅलराउंडर ने यहां पर हमेशा से श्रेष्ठ में से सर्वश्रेष्ठ बनने की अपनी इच्छा, व्यक्तित्व को लेकर बदलती धारणाओं, भाई क्रुनाल के साथ उनके प्यारे से रिश्ते, उनके संघर्ष और जिंदगी की चुनौतियों को अपने पक्ष में मोड़ने की संघर्ष यात्रा से जुड़ी बातें कीं। भीगे होंठ तेरे को गुजराती भाषा में गाने से लेकर अपने टैटू के बार में विस्तार से बताने तक, हार्दिक ने इस एपिसोड में कई धमाके किए। हार्दिक बताते हैं कि उनके लिए सबसे गौरव का क्षण वह था जब अमिताभ बच्चन ने उनसे कहा मैं तुम्हारा बहुत बड़ा फैन हूं। उन्होंने कहा कि अमित जी खुद चलकर उनसे मिलने आए और उनके साथ सेल्फी ली। इसके बाद कोई और इसे पोस्ट करे उससे पहले अमिताभ चाहते थे कि इसे पोस्ट कर दिया जाए।

हार्दिक ने अपने पसंदीदा चीज पॉपकॉर्न खाते हुए उस पल के बारे में बताया कि जब मुंबई इंडियंस के ड्रेसिंग रूम में उन्होंने खुद को बड़े सितारों के बीच पाया। वे उस पल को याद करते हैं जब पहली बार सचिन आए और ह्यहायह्ण कहा, और आश्चर्यचकित होकर उन्होंने अपनी प्लेट गिरा दी। वे याद करते हैं कि जब वॉर्मअप मैच के बाद सचिन ने उनसे कहा, ष्जिस तरह तुम खेल रहे हो, एक से डेढ़ साल के भीतर तुम भारत के लिए खेलोगे। तुम्हारे भीतर वो क्षमता और मजबूत इरादा है।ष् उस समय, कोई नहीं जानता था कि 7 से 8 महीनों के भीतर हार्दिक भारत के लिए खेलेंगे।
एक निम्न-मध्यमवर्गीय पृष्ठभूमि से देश के लिए खेलने तक की उनकी जिंदगी किसी रोलर कोस्टर से कम नहीं रही है। क्रिकेट में कुछ बड़ा करने का अभियान तब से शुरू हुआ जब वे नवीं क्लास में फेल हो गए। उस वक्त खेल पर ध्यान केंद्रित करने के लिए पांड्या ने स्कूल छोड़ दिया। पांड्या ने कहा ह्लपापा का सपना था कि हम इंडिया के लिए खेलें, और जब मैंने स्कूल छोड़ा तब मेरे पास क्रिकेट में सफल होने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं था। उन्होंने यह भी बताया कि सिर्फ 400 रुपए के लिए वे किस तरह स्थानीय मैच और गांव के टूनार्मेंट में खेला करते थे।