हो तुम्हारी तरफ़ से भी मोहब्बत बेपनाह तो बात बने

0
324
Spread the love

शेरों- शायरी

  • हो तुम्हारी तरफ़ से भी मोहब्बत बेपनाह तो बात बने।
    मैं ही मैं करूँ तो कितना करूँ तुम भी शामिल रहो तो बात बने।।
  • काश् वो होते कभी करीब हमारे।
    हम भी होते खुशनसीब जहाँ में।।
  • बड़ी बेसब्री से हमें उनका इंतेजार है।
    एक घंटे का वक्त भी लगे एक वार है।।
  • आवाजें उठ रहीं हैं बहुत सी तेरे खिलाफ़।
    बस ये मोहब्बत ही है जो मैं तुम्हारे साथ।।
  • तुम वो तुम न थे जो तुम मेरे तुम थे।
    तुम तो निकले वो तुम जो तुम तुम थे।।
  • आ जा कि तेरी यादों में खोने के पहले।
    मैं, मैं ही रहूँ कि तेरे आने के पहले।।
  • तुमने कभी न चाहा था बस हमको ही फितूर था।
    तू आज भी उतना दूर है जितना पहले दूर था ।।
  • उनका वादा दावा ही रहता है हवा में रहता है।
    कभी इन्हें ज़मीन पे उतरते मैंने नहीं देखा।।
  • बस बरसता रहे दिल से प्यार तेरा।
    और कुछ न चाहिये जो तू है मेरा।।
  • जी लूँगा मैं बस तुम्हारी खुशी देखकर।
    इससे ज्यादा मुझे कुछ और न चाहिये।।
  • हम प्यार करेंगे तुमको देख लेना जतन से।
    तुम इस प्यार को तवज्जों दोगे सच्चे मन से।।
  • राहुल गुप्ता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here