पक्षियों को बचाने के लिए #IloveBirds की शुरुआत

0
283

एक समय था जब हम सुबह-सुबह पक्षियों की चहचहाहट सुनकर उठते थे। हमारी सुबह की चाय पीना और उन मीठी आवाज़ों को सुनना हमें अपने जीवन का दूसरा दिन शुरू करने के लिए प्रेरित करता था। लेकिन, अब ऐसा लग रहा है कि सुबह का नजारा बदल चुका है। चाहे वह सुबह का समय हो या शाम का समय, हम आकाश में उड़ते हुए पक्षियों को देखते थे। लेकिन अब, चहकने और  चहचहाहट की आवाज़ के बजाय, हम वाहनों की आवाज़ सुनते हैं, पक्षियों के स्थान पर हम धुएं की परतें देखते हैं और प्रदूषण का आकाश देखते हैं।

 

पिछले कुछ वर्षों में पर्यावरण की पूरी तस्वीरों को बदल दिया गया है। लेकिन क्या आपने कभी इस बारे में कोई विचार किया कि हमारे आसपास से पक्षियों के अचानक गायब होने का कारण क्या हो सकता है? प्रकृति के उन छोटे जीवों का क्या हुआ जो अपनी आवाज़ और ऊर्जा से हमारे दिमाग को ताज़ा करने में कभी असफल नहीं होते थे? इन विचारों को ध्यान में रखते हुए, उत्तर भारत के प्रमुख प्रसिद्ध पीआर संगठन PR24x7 ने प्रकृति के इन अनमोल प्राणियों को बचाने और संरक्षित करने के मिशन के साथ #IloveBirds की पहल शुरू की है।

 

 

 

 

 

 

 

 

इस पहल को विलुप्त होने की कगार पर पहुंच चुके पक्षियों के संरक्षण और बचाने के लिए शुरू किया गया है। पिछले कुछ वर्षों से छोटे पक्षियों की प्रजातियों में तेजी से कमी देखी जा रही है, जैसे कि गौरैया, कबूतर, आदि। यह विशेष रूप से गर्मियों के मौसम में देखें जाते है, क्योंकि तापमान में वृद्धि के साथ अधिकांश झीलें और नदियाँ सूख जाती हैं, जिसकी वजह से  ऐसे तीव्र तापमान में जीवित रहने के लिए उन्हें पर्याप्त पानी और भोजन प्राप्त नहीं हो पाता है। इस अभियान के बारे में बात करते हुए, PR24x7 के संस्थापक श्री अतुल मलिकराम कहते हैं कि, “पिछले कुछ वर्षों से हमने देखा है कि कैसे ये पक्षी दिन-ब-दिन घटते जा रहे हैं। वे ज्यादातर प्यास और भूख से मर रहे हैं।

 

इस अभियान का उद्देश्य इस मुद्दे के बारे में लोगों को जागरूक करना और इन पक्षियों को जीवित रहने में मदद करने का आग्रह करना है। यह हमारा कर्तव्य है कि हम एक मानव और प्रकृति के हिस्से के रूप में एक और प्राकृतिक प्राणी की मदद करें और उसे बचाएं।

इस पहल के तहत, PR24x7 देश भर में लोगों से इन पक्षियों को पानी और दाना खिलाकर उनकी मदद करने का आग्रह कर रहा है। वे एक प्रतियोगिता भी चला रहे हैं जिसमें वे लोगों को पानी पिलाने और पक्षियों को भोजन करने के लिए आमंत्रित कर रहे हैं। प्रतिभागियों को पक्षियों को खिलाने की अपनी सेल्फी लेनी होगी और इसे अपने नाम के साथ +91 9755020247 नंबर पर व्हाट्सएप पर भेजना होगा। सर्वश्रेष्ठ सेल्फी के विजेता को उपहार के साथ पुरस्कृत किया जाएगा। यह प्रतियोगिता 30 अप्रैल तक आयोजित की जाएगी।

इन प्राकृतिक प्राणियों को पूरी तरह से गायब होने से बचाने के लिए यह आवश्यक और सही समय है। निस्संदेह यह हम इंसानों के कारण ही हुआ है कि पक्षी दिन ब दिन मर रहे हैं। वे बोल नहीं सकते, लेकिन मनुष्य के रूप में, हम उनके दर्द को महसूस कर सकते हैं। तो क्यों न हम आगे आएं और अपने स्तर पर एक ऐसा वातावरण प्रदान करें, जहां वे स्वतंत्र रूप से अपना जीवन यापन कर  सकें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here