नेहरु-गांधी परिवार ने कभी भी प्रधानमंत्री कार्यालय का सम्मान नहीं किया: जेपी नड्डा

0
358

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा ) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने कांग्रेस और गांधी परिवार की आलोचना करते हुए कहा है कि पंजाब में राहुल गांधी की ओर से निर्देशित प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पुतला जलाने का नाटक शर्मनाक है।

श्री नड्डा ने सोमवार को सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा कि “ऐसा नाटक अप्रत्याशित नहीं है क्योंकि नेहरु गांधी राजवंश ने कभी भी प्रधानमंत्री कार्यालय का सम्मान नहीं किया है। वर्ष 2004 से 2014 तक संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) के कार्यकाल के दौरान प्रधानमंत्री के अधिकार को संस्थागत तौर पर कमज़ोर करते हुए देखा गया।”

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि “निराशा और बेशर्मी का मेल खतरनाक है। कांग्रेस के पास दोनों है। जहां पार्टी में राहुल गांधी घृणा क्रोध, झूठ और आक्रामकता की राजनीति दिखाते हैं वहीं उनकी मां सोनिया गांधी शालीनता और लोकतंत्र की सिर्फ बयानबाजी करके इसका पूरक बनती हैं। ये कांग्रेस पार्टी के दोयम दर्जे को दिखाता है।”

भाजपा अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आलोचना किए जाने को लेकर कांग्रेस पर करारा हमला किया और कहा कि विपक्षी दल और उसके नेता जितना ‘‘झूठ’’ बोलेंगे और मोदी से ‘‘नफरत’’ करेंगे, उतना ही और अधिक लोग उनका समर्थन करेंगे।

नड्डा ने सिलसिलेवार ट्वीट कर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उनके पुत्र राहुल गांधी द्वारा विभिन्न मुद्दों पर प्रधानमंत्री मोदी की निंदा किए जाने को लेकर प्रहार किया नड्डा ने कहा, ‘‘निराशा और बेशर्मी का गठजोड़ काफी खतरनाक होता है। कांग्रेस के पास ये दोनों ही है। जहां पार्टी में बेटा घृणा, क्रोध, झूठ और आक्रामकता की राजनीति का जीवंत प्रदर्शन करता है तो वहीं माता दिखावे की शालीनता का प्रदर्शन और लोकतंत्र पर खोखली बयानबाजी कर इसका पूरक बनती है।’’

भाजपा अध्यक्ष की ये टिप्पणी सोनिया गांधी द्वारा एक अंग्रेजी अखबार में लिखे लेख के मद्देनजर आई है। इस लेख में सोनिया गांधी ने आरोप लगाया कि मोदी राज में लोकतंत्र को खोखला किया जा रहा है। इसके जवाब में नड्डा ने विपक्षी नेताओं को आपातकाल की याद दिलाई और कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी पर कांग्रेस कभी भी दूसरों पर दबाव नहीं बना सकती।

उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस का आवाज दबाने का दशकों से इतिहास रहा है। इसे हमने आपातकाल के दौरान भी देखा। इसके बाद राजीव गांधी की कांग्रेस सरकार ने भी प्रेस की आजादी को कमजोर करने का प्रयास किया।’’ उन्होंने आरोप लगाया कि स्वतंत्र मीडिया सदैव ही कांग्रेस को चुभता है। नड्डा ने महाराष्ट्र में शिव सेना-नीत गठबंधन सरकार को कांग्रेस के ‘‘आशीर्वाद’’ से चलने वाली सरकार बताया और कहा, ‘‘क्रूर राज्य शक्ति के इस्तेमाल की प्रयोगशाला को देखना चाहता है, तो वह कांग्रेस के आशीर्वाद से चलने वाली महाराष्ट्र सरकार को देखे जहां विपक्ष को परेशान किया जा रहा है और बोलने की आजादी पर अंकुश लगाया जा रहा है। राज्य चलाना छोडक़र महाराष्ट्र सरकार सब कुछ कर रही है।’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here