यूपी: 17 अरब, 50 करोड़ रुपये में 25 करोड़ पौधे फैलाएंगे प्रदेश में हरियाली

0
84
  • प्रति पौधा 70.1 रुपये खर्च का है अनुमान, एक-एक व्योरा दिया गया है पत्र में
  • तीन चरणों में होना है व्यय, प्रथम चरण में ही नौ अरब 55 करोड़ रुपये लगेंगे

उपेंद्र नाथ राय

लखनऊ, 24 मई 2020: वन विभाग द्वारा पूरे यूपी में किये जाने वाले 25 करोड़ पौधरोपण पर आने वाले खर्च का ब्यौरा 201 रुपये की मजदूरी पर सभी चरण को मिलाकर 70.01 रुपये दर्शाया गया है अर्थात एक पौध को तैयार करने में 70.01 रुपये खर्च होंगे। इसके अनुसार 17,50,25,00,000 रुपये खर्च होंगे। यह खर्च तीन चरणों में होगा। प्रथम चरण में अग्रिम मृदा कार्य एवं रोपण का कार्य होना है, जिसमें प्रति पौधे 38.21 रुपये खर्च होना है। इस हिसाब से प्रथम चरण में ही 9,55,25,00,000 रुपये खर्च अनुमानित है।

मुख्य वन संरक्षक, सामाजिकी वानिकी, द्वारा समस्त नोडल अधिकारियों व जिला अधिकारियों को भेजे गये पत्रांक संख्या पी-942/36-पी-23ए में पूरा एक-एक व्यय का ब्योरा दर्शाया गया है। उस पत्र के अनुसार प्रथम चरण् में गड्ढा खुदाई पर सात रुपये 76 पैसे, गोबर खाद पर 9.92 रुपये, खाद का मिश्रण कर गड्ढा भरान .97 रुपये, पौध की कीमत तीन प्रतिशत अतिरिक्त सात रुपये, पौध की ढुलान प्रति पौध एक रुपये, थाला बंदी, सिंचाई पर 4.48 रुपये, पौधों की निराई-गुड़ाई में 1.38 रुपये, पौधों की सिंचाई समस्त व्यय सहित चार बार .92 रुपये, कीटनाशक दवा व उर्वरक का छिड़काव .40 रुपये व्यय होना है। इस तरह 201 रुपये की मजदूरी पर प्रथम चरण में ही 38.21 रुपये व्यय होगा।

पत्र के अनुसार दूसरे चरण में कुल व्यय 18.12 रुपये होने हैं। इस हिसाब से 25 करोड़ पौधों के रोपण पर 4,53,00,00,000 रुपये खर्च होगा। इसमें उर्वरक आदि का पूरा व्योरा दिया गया है। यह खर्च भी 201 रुपये की मजदूरी पर निकाला गया है। इसके लिए विभाग पूरी तैयारी कर चुका है।

वहीं तृतीय चरण में प्रति पौधा 13.68 रुपये का व्यय दिखाया गया है। इसके अनुसार दो सौ एक रूपये की मजदूरी के हिसाब से पौधों की निराई-गुड़ाई में प्रति पौधा 1.38 रुपये, पौधों की सिंचाई छह बार .80 रुपये, इंजन आदि की मरम्मत पांच सौ रुपये एक मुश्त, अन्य व्यय हेक्टेयर के हिसाब से एक हजार रुपये एक मुस्त व्यय होना है। इस तरह तीसरे चरण में 25 करोड़ पौध रोपण में कुल व्यय 3,42,00,00,000 रुपये व्यय होने हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here