शोहदे ने तलवार से छात्रा हाथ काट डाला, दो दरोगाओं ने रक्तदान किया

0
895

उत्तर प्रदेश में कानून नाम का कोई डर बचा नहीं। यह घटना महज अपराध नहीं है, महिला सुरक्षा की नारेबाजी की असली तस्वीर है।
लखीमपुर खीरी में बुधवार को दिनदहाड़े हैवानियत की हद पार कर देने वाली घटना सामने आई है। छेड़खानी का विरोध करने पर एक लड़के ने तलवार लेकर न सिर्फ छात्रा को दौड़ाया बल्कि उसका एक हाथ काटकर अलग कर दिया। घटना के बाद इस मनचले को स्थानीय लोगों ने पकड़ा और उसकी खूब धुनाई की। बाद में उसे पुलिस के हवाले कर दिया गया।

छात्रा को आनन-फानन में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। छात्रा की गंभीर हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने उसे लखनऊ के ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया है। शहर के बाबूराम सर्राफ नगर में रहने वाली एक छात्रा बुधवार को निघासन सड़क से गुजर रही थी। तभी रोहित चौरसिया नामक युवक उसके साथ छेड़छाड़ करने लगा। छात्रा ने जब इसका विरोध किया तो आरोपी कुछ देर बाद तलवार लेकर आया और उसे बीच सड़क दौड़ाने लगा। उसका पीछा करते हुए वह लड़की के पास पहुंचा और उसका हाथ काट दिया।
अब पुलिस आरोपी पर एन एस ए लगाने की बात कर रही है। क्या यह समाज इतना संवेदनहीन हो गया है?
खबर है कि 11 घण्टे के ऑपरेशन के बाद के जी एम के डॉक्टरों ने प्लास्टिक सर्जरी से हाथ जोड़ दिया है।
एक सुखद खबर यह भी है कि बच्ची को जब दो यूनिट खून की जरूरत हुई तो लखीमपुर के दो दरोगाओं ने रक्तदान किया।


हाथ तो जुड़ा लेकिन पूरे ऑपरेशन में 11 घंटे से अधिक समय लगा

केजीएमयू के प्लास्टिक सर्जरी विभाग के डॉक्टरों ने लखीमपुर की लड़की के कलाई से कटे हाथ को बृहस्पतिवार को जोड़ दिया। इस पूरे ऑपरेशन में 11 घंटे से अधिक लगे। इस लड़की का हाथ एक शोहदे ने बुधवार को तलवार से काट दिया था। इसके बाद पुलिस ने कटे हुए हाथ को एक पन्नी में रखकर केजीएमयू के प्लास्टिक सर्जरी विभाग पहुंचाया था।

सर्जरी के बाद लड़की को पोस्ट ऑपरेटिव आईसीयू में रखा गया है। जहां उसे लगभग एक सप्ताह तक निगरानी में रखा जाएगा। इसके बाद पता चलेगा कि सर्जरी में कितनी सफलता मिली है। बृहस्पतिवार शाम को 7 बजे मरीज को थर्ड फ्लोर पर ट्रॉमा वेंटीलेटर यूनिट में शिफ्ट कर दिया गया।

प्लास्टिक सर्जरी विभाग के हेड प्रो. एके सिंह ने बताया कि लखीमपुर निवासी लड़की का हाथ शोहदे ने लगभग दोपहर 2.30 बजे काटा था। तलवार के एक वार से ही हाथ कलाई से कटकर अलग हो गया था। खुद को बचाने के चक्कर उसके दूसरे हाथ में भी काफी चोटें आई थीं। पहले उसे लखीमपुर के जिला अस्पताल ले जाया गया। जहां फर्स्ट एड देने के बाद उसे केजीएमयू के लिए रेफरकर दिया गया।

एंबुलेंस से रात को लगभग 9.15 बजे किशोरी केजीएमयू ट्रॉमा सेंटर पहुंची जहां से उसे प्लास्टिक सर्जरी विभाग की इमरजेंसी में शिफ्ट किया गया। डॉ. बृजेश मिश्रा ने बताया एक्स-रे आदि जांच के बाद रात को 10.30 बजे किशोरी का ऑपरेशन शुरू किया गया। इस सर्जरी में छह प्लास्टिक सर्जनों की टीम लगी।

उंगली भी कटी हुई थीं:

डॉ. बृजेश मिश्र ने बताया कि किशोरी को बुरी तरह से तलवार से मारा गया था। इसके चलते उसका बायां हाथ पूरी तरह से कलाई से कटकर अलग हो गया था। वहीं दाहिने हाथ में कोहनी के पास से गंभीर रूप से कटा था। इसके अलावा हथेली के बीच के हिस्से के साथ तीसरी, चौथी, पांचवीं उंगली भी कटी हुई थी।

तलवार के वार से हाथ की नसों और नर्व को भी नुकसान पहुंचा था। किशोरी के सिर पर भी तलवार के दो गहरे घाव हैं। उन्होंने बताया कि बुधवार रात को 10.30 बजे शुरू हुई सर्जरी बृहस्पतिवार सुबह लगभग 9.30 बजे खत्म हुई।

48 से 72 घंटे अहम:

आमतौर पर कटे हुए अंगों को छह घंटे के अंदर जोड़ देना चाहिए। किशोरी का हाथ उनके पास लगभग 7-8 घंटे बाद पहुंचा था। इसलिए कम समय में सर्जरी करना बहुत जरूरी था। इसलिए समय का सही प्रबंधन करते हुए सर्जरी को पूरा किया। बाएं हाथ की तीन उंगलियों में खून की आपूर्ति कम थी। इसलिए उन्हें भी खतरा है। 48 से 72 घंटे मरीज के लिए बेहद अहम हैं। बृहस्पतिवार शाम को सात बजे ट्रॉमा वेंटीलेटर यूनिट में शिफ्ट कर दिया गया।

ऐसे जोड़ा गया कलाई से कटा हाथ:
  • कलाई और हाथ के कटे हिस्से की सफाई की गई
  • तलवार के वार क्षतिग्रस्त हड्डियों, मांसपेशियों को हटाया गया
  • पहले कटी हड्डी को जोड़ा गया
  • इसके बाद मांसपेशियों, तंतुओं, नर्व जोड़ी गईं
  • हाथ में खून की आपूर्ति बनी रहे इसके लिए धमनियों और शिराओं को जोड़ा गया