ई सब नरेंद्र मोदी और अमित शाह करा रहा है: लालू यादव

0
483
file photo
  • तेजश्वनी यादव से सीबीआई ने की बंद कमरे में पूछताछ
  • मोदी व अमित शाह को ठहराया ज़िम्मेदार
  • सीबीआई को केंद्र के इशारे पर इस्तेमाल किया जा रहा है: लालू यादव

लालू यादव के यहाँ हुई छापेमारी के बारे उन्होंने कहा की सीबीआई को केंद्र के इशारे पर इस्तेमाल किया जा रहा है इसमें सीबीआई की कोई गलती नहीं है, उपर से नरेन्द्र मोदी व अमित शाह सब करा रहा है. राजनीतिक साजिश के तहत ऐसा किया जा रहा है ताकि महागठबंधन की सरकार में दरार आ जाए, बीजेपी के खिलाफ विपक्ष लामबंद न हो और 27 अगस्त को होने वाली रैली बेअसर हो, लेकिन ऐसा हम होने नहीं देंगे. फांसी पर चढ़ जाएंगे लेकिन मोदी व अमित शाह का नामोनिशान मिटा कर रख देंगे।

सीबीआई छापे पर अपनी सफाई देते हुए अपने आवास आयोजित संवाददाता सम्मेलन में लालू ने कहा कि यह सब महागठबंधन की एकता तोड़ने के लिए भाजपा की साजिश है. उन्होंने कहा कि फांसी पर चढ़ जायेंगे लेकिन टूटेंगे नहीं. उन्होंने एक सवाल के जवाब में फिर से कहा कि इन सबसे महागठबंधन को कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है हम भाजपा को उखाड़ फेकेंगे।

संवाददाताओं से बात करते हुए लालू ने उस मामले से संबंधित कुछ तथ्य भी रखे जिस मामले में सीबीआई ने रेड की है. उन्होंने कहा कि IRCTC का गठन साल 1999 में हुआ था. 2002 में यह फंक्शन में आया. 2003 में रेलवे ने दिल्ली, हावड़ा, रांची और पुरी के होटल IRCTC को हैंडओवर कर दिए थे. इन होटलों को 15 साल की लीज पर दिया गया है।

उन्होंने कहा कि मैं 31 मई 2004 को रेल मंत्री बना जबकि तत्कालीन एनडीए सरकार ने इससे पहले ही IRCTC को इन होटलों को हैंडओवर करने का निर्णय ले लिया था. इन होटलों को खुला टेंडर के माध्यम से दिया गया था।

क्या हैं पूरा मामला:
सीबीआई ने 2006 में रेलमंत्री रहे लालू प्रसाद यादव, पत्नी राबड़ी देवी, उनके बेटों के साथ अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. इन सभी लोगों पर रांची और पुरी में रेल मंत्रालय द्वारा होटल के लिए जारी टेंडर में धांधली का आरोप है. उस दौरान लालू प्रसाद रेल मंत्री थे. इसी मामले में पटना के साथ ही सीबीआई ने लालू प्रसाद के अन्य ठिकानों पर भी रेड किया है. कुल 12 ठिकानों पर सीबीआई की रेड हुई है. इनमें दिल्ली में 5, पटना में 3, पुरी में 1 और रांची के 2 ठिकानों पर छापेमारी की गई है।