कोविड-19 में ड्यूटी कर रहे शिक्षकों को मिले चिकित्सा व्यवस्था और अवकाश

0
542

लखनऊ, 03 अगस्त, 2020: उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक संघ के अध्यक्ष श्री सुधांशु मोहन ने मांग की है कि कोविड-19 में ड्यूटी कर रहे शिक्षकों के प्रति विनम्रता बरती जाए। उन्होंने कहा कि कई सौ परिषदीय शिक्षकों की ड्यूटी कोविड-19 के विभिन्न कार्यों सर्विलांस व सर्वे में उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता, गंभीर बीमारी व आयु को नजरअंदाज करके लगाई गई है। साथ ही साथ इस कार्य में किसी प्रकार का रोस्टर तथा अवकाश न होने के कारण उक्त कार्य कर रहे शिक्षक भी कोविड-19 से ग्रसित होते जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि उक्त कार्य में लगे शिक्षकों की जांच व चिकित्सा की समुचित व्यवस्था जिला स्वास्थ्य प्रशासन की ओर से नहीं प्रदान की जा रही है। जिससे शिक्षको /शिक्षिकाओं के अंदर कोविड-19 का भय व्याप्त होता जा रहा है, जो कोविड-19 की लड़ाई में बाधक बन रहा है। कोविड-19 के खात्मे तथा शिक्षक शिक्षिकाओं के जानमाल की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए संगठन ने प्रशासन निम्न बिंदुओं पर विचार करने कि अपील करता है।

यह रही मांगें:-

  1. शिक्षक /शिक्षिकाओं की ड्यूटी में रोस्टर व्यवस्था लागू की जाए।
  2. एक सप्ताह कार्य करने के उपरांत उन्हें घर पर रखा जाए। शिक्षकों को साप्ताहिक अवकाश अवश्य प्रदान किया जाए तथा अवकाश के दिनों में कार्य के बदले प्रतिकर प्रदान किया जाए।
  3. शिक्षकों की बीमारी, आयु, रोग प्रतिरोधक क्षमता तथा सक्षमता को दृष्टिगत रखकर ही नियुक्त किया जाए।
  4. कोविड-19 से ग्रसित शिक्षकों को प्रथम की श्रेणी चिकित्सा व्यवस्था प्रदान की जाए।
  5. शिक्षक /शिक्षिकाओं की ड्यूटी उनके आवागमन तथा उनकी प्रतिरोधक क्षमता तथा सक्षमता को दृष्टिगत ध्यान में रखकर उनके आवास के करीब या सभासद क्षेत्र अथवा कार्य क्षेत्र में ही लगाई जाए।
  6. सुरक्षा से संबंधित समस्त उपकरणों व सामग्री उपलब्ध कराई जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here