एक कॉल से पता चला, बाबा के समर्थकों को पंचकूला में इकट्ठा करने के निर्देश गये

0
611

‘पुलिस कमिश्नर तो ए एस चावला ने कहा, ऐसे कई कॉल हैं जिनमें ऐसा निर्देश पाया गया है। लेकिन यह जांच की विषय है कि क्या ये डेरा के मुख्य समर्थकों के थे, जिन्होंने निर्देश या अनुयायियों को जारी किया था। पुलिस इन्हीं को रडार पर लेकर चल रही है। पुलिस पीएलए के 15 सदस्यीय कमेटी सदस्य, संत नगर के 45 सदस्यीय कमेटी की तलाश में है।’

पंचकूला में लाखों की भीड़ कैसे जमा हो गई इसका खुलासा एक खुफिया रिपोर्ट से हुआ

नई दिल्ली 27 अगस्त। पुलिस और खुफिया तंत्र के पास इस बात के इनपुट हैं कि इसी चैनल से डेरा प्रेमियों को पंचकूला के लिए कॉल की गई थी। यानी सीधे तौर पर कहीं ना कहीं हिंसा करवाने में इनका किसी न किसी रूप में जरूर हाथ है। पंचकूला की सीबीआई की विशेष अदालत में डेरा प्रमुख राम रहीम सिंह इंसां पर 25 अगस्त को अाने वाले निर्णय की संभावनाओं पर लाखों अनुयायी पंचकूला में कैसे पहुंच हैं। जब की इंटरनेट और मैसेज बंद होने के बावजूद पंचकूला में लाखों लोगों की भीड़ कैसे जमा हो गई। इसका खुलासा एक खुफिया रिपोर्ट से हुआ है। शुक्रवार को पंचकुला में आगजनी और हिंसा शुरू होने से पहले, हरियाणा पुलिस ने टेलीफोन कॉल और मैसेज सेवा रोक दी थी।

इसी दौरान एक कॉल से पता चला है, जिसमें डेरा सच्चा सौदा के समर्थकों को पंचकूला में इकट्ठा करने के निर्देश दिए गए, ताकि फैसले के बाद हिंसा की जा सके। फोन पर हिंसा करने के निर्देश दिए गए थे। तो पुलिस कमिश्नर तो ए एस चावला ने कहा, ऐसे कई कॉल हैं जिनमें ऐसा निर्देश पाया गया है। लेकिन यह जांच की विषय है कि क्या ये डेरा के मुख्य समर्थकों के थे, जिन्होंने निर्देश या अनुयायियों को जारी किया था।

उन्होंने कहा कि यह गंभीर विषय है जिसे व्यक्तिगत रूप से देखा जाना चाहिए। प्रशासन का मानना है कि इन कमेटियों की कॉल पर ही पंचकूला में लाखों की भीड़ जुटी। खुफिया तंत्र ने पंचकूला जाने वाले लोगों की जो लिस्ट प्रशासन को थमाई थी, उन्हीं के आधार पर अब पुलिस उनके घरों तक पहुंच रही है। परिवार के लोगों से उनके बारे में पूछताछ की जा रही है कि संबंधित व्यक्ति अभी तक आया है या नहीं। इस मामले की सूचना पर अधिकतर कमेटी सदस्य, ब्लॉक भंगीदास भूमिगत हो गए हैं।

पुलिस और खुफिया तंत्र के पास इनपुट है कि इसी चैनल से डेरा प्रेमियों को पंचकूला के लिए कॉल की गई थी। यानी सीधे तौर पर कहीं ना कहीं हिंसा करवाने में इनका किसी न किसी रूप में जरूर हाथ है। पुलिस इन्हीं को रडार पर लेकर चल रही है। पुलिस पीएलए के 15 सदस्यीय कमेटी सदस्य, संत नगर के 45 सदस्यीय कमेटी की तलाश में है। दोनों कमेटियों के लोग भूमिगत हो गए हैं। परिवार के लोगों से इनको लेकर पूछताछ की जा रही है। इनके घरों के आसपास पूरी निगरानी की जा रही है।