अब पारले जी बिस्कुट पर भी 18 फीसदी GST

0

‘इस देश में करोड़ों माताएं सुबह-सुबह अपने बच्चों को सबसे सस्ता दो रुपये का पारले जी का ग्लूकोज बिस्कुट देती हैं, जो उनकी भूख तो शांत करता ही है, आयरन, ग्लूकोज और विटामिन की भी कमी पूरी करता है। इस पर 18 फीसदी का टैक्स उनके लिए मुश्किल कड़ी कर सकता है ‘


नई दिल्ली। जीएसटी काउंसिल की अहम् बैठक के बाद सभी तरह के बिस्कुटों पर 18 फीसदी का टैक्स लगा दिया गया। इस प्रकार इनमें देश के करोड़ों गरीब बच्चों का पेट भरने वाला पारले जी के दो रुपये के ग्लूकोज बिस्कुट का पैक भी शामिल है।

इस देश में करोड़ों माताएं सुबह-सुबह अपने बच्चों को सबसे सस्ता दो रुपये का पारले जी का ग्लूकोज बिस्कुट देती हैं, जो उनकी भूख तो शांत करता ही है, आयरन, ग्लूकोज और विटामिन की भी कमी पूरी करता है। इस पर 18 फीसदी का टैक्स उनके लिए मुश्किल कड़ी कर सकता है।

इस देश में बिस्कुट ही एक ऐसा प्रोडक्ट है, जिसे गरीब भी अफोर्ड कर सकता है। पूरे देश में आपको दो से पांच रुपये में बिस्कुट का 50 ग्राम का पैक आराम से मिल सकता है। महंगे बिस्कुट अमीर इस्तेमाल करते हैं। उन पर टैक्स दायरा बढ़ाने के बजाय आपने दो रुपये वाले बिस्कुट पर तलवार चलाई है।

जानकारी के अनुसार ब्रेड को तो टैक्स के दायरे से बाहर कर दिया गया जबकि दो रुपये में ब्रेड का कोई पैकेट नहीं आता है। लेकिन दो रुपये के बिस्कुट पैक पर महंगे बिस्कुट के बराबर टैक्स लाद दिया।

इस देश में बिकने वाला पारले जी के आठ बिस्कुटों वाला दो रुपये का पैक उन लोगों के लिए नियामत है जो अपने बच्चों को सुबह-सुबह सेरेलेक, फल, महंगे टॉनिक और जैम, जेली, मक्खन के साथ ब्रेड नहीं दे सकते। दो रुपये का बिस्कुट ही उन बच्चों को लिए आयरन, शुगर और कैल्शियम की पूर्ति करता है। इस देश के नौनिहालों को पोषण देने का जो काम दो रुपये का बिस्कुट का पैक कर रहा है।