भाजपा को उद्योगपतियों की चिंता है, किसानों की नहीं :हार्दिक पटेल

0
262

सरकार आज 12 गांव की जमीनें हड़प लेगी और ऐसे ही यदि हम खामोश रहे तो कल 100 गांवों के किसानों को उनकी जमीन बाहर खदेड़ देगी: पटेल

भावनगर, 09 मई। पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति (पास) नेता हार्दिक पटेल ने फिर एक बार कृषि जमीनों को लेकर गुजरात की भाजपा सरकार पर कड़े प्रहार किए और कहा कि उसे किसानों से ज्यादा चिंता उद्योगपतियों की है। बंदूक की नोक पर किसानों के अधिकार छीनने के भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए हार्दिक पटेल ने इस अन्याय के खिलाफ एकजुट होकर लड़ने का आह्वान किया।

भावनगर जिले की घोघा तहसील के बीडापडवा गांव में गुजरात पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड के पावर प्लांट के लिए जमीन संपादन प्रक्रिया के खिलाफ किसान आंदोलन कर रहे हैं। आंदोलनकारियों के बीच हार्दिक पटेल ने कहा कि सरकार आज 12 गांव की जमीनें हड़प लेगी और ऐसे ही यदि हम खामोश रहे तो कल 100 गांवों के किसानों को उनकी जमीन बाहर खदेड़ देगी। इसलिए किसानों को एकजुट होकर सरकार की नीतियों के खिलाफ तब तक संघर्ष करना होगा जब कोई नतीजा नहीं मिलता। हार्दिक पटेल ने 12 गांव के किसानों के आंदोलन को समर्थन का ऐलान करते हुए कहा कि मुझे जब बुलाया जाएगा, तब मैं हर लड़ाई में आगे रहूंगा। हार्दिक ने कहा कि गुजरात की भाजपा सरकार किसान विरोध है, जिससे किसी प्रकार की उम्मीद करने के बजाए अपनी लड़ाई खुद लड़नी होगी।

किसानों को फसलों की पर्याप्त कीमत, फसल बीमा, अंधाधुंध जमीन संपादन समेत अनेक मामलों में किसान सरकारी दमन का शिकार हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार उद्योगपतियों को प्रोत्साहन देती है, परंतु किसानों की कोई चिंता नहीं करती। सत्ता के मद में चूर भाजपा सरकार को 12 गांव के 5000 किसानों की कोई फिक्र नहीं है। जिले के सभी किसान एकजुट होकर आंदोलन करें तो गांधीनगर में बैठी सरकार किसानों के आगे नतमस्तक हो जाएगी।