राज्यसभा चुनाव में गड़बड़ाएगा बीजेपी का गणित?

0
264

कारण है उपचुनाव में हार

नई दिल्ली, 15 मार्च। उत्तर प्रदेश की दो लोकसभा सीटों के उपचुनावों के नतीजों ने सूबे के साथ-साथ देश की राजनीति पर भी बड़ी छाप छोड़ी है। बीजेपी के विजयरथ को रोकने के लिए विपक्ष के सामने एकजुटता का नया फॉर्मूला सामने आया है। उत्तर प्रदेश में मायावती और अखिलेश के गठबंधन के साथ ही राज्यसभा चुनावों का गणित भी बदला है। उपचुनावों में समाजवादी पार्टी और बसपा के गठबंधन का जादू चल गया है, जिसका असर राज्यसभा चुनाव में दिख सकता है। अगर बसपा-सपा राज्यसभा चुनाव में भी एक-दूसरे का साथ देते हैं तो दोनों के उम्मीदवार जीत हासिल कर सकते हैं।

बता दें कि राज्य विधानसभा में सपा के 47, बसपा के 19, कांग्रेस के सात, तीन निर्दलीय और रालोद व निषाद पार्टी के एक-एक विधायक हैं। एक राज्यसभा सीट के लिए 37 वोट चाहिए। गणित साफ है कि विपक्षी दल दो सदस्यों को राज्यसभा भेज सकते हैं। बीजेपी गठबंधन के खाते में आठ और 47 विधायकों वाली सपा के खाते में एक सीट जाना तय है। सपा के 10 अतिरिक्त वोट, बीएसपी के 19, कांग्रेस के सात और तीन अन्य मिलकर एक उम्मीदवार को जिता सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here