कांग्रेस-बीजेपी दोनों लोकपाल बिल के खिलाफ: अन्ना हजारे

0
316
file photo

आज सांसद,विधायक जनता की शिकायत से डरते है, कहीं कार्रवाई ना हो जाए

नई दिल्ली, 28 फरवरी। मंगलवार को जनजागरण यात्रा पर सीतापुर पहुंचे समाजसेवी अन्ना हजारे ने जन लोकपाल बिल के मुद्दे पर बीजेपी और कांग्रेस दोनों दलों पर जमकर हमला बोला। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही पार्टी लोकपाल बिल नहीं लाना चाहती है। अन्ना ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लोकपाल बिल को और कमजोर कर दिया। इस सरकार का ध्यान काम करने से ज्यादा विरोधियों को दबाने पर है। इस मौके पर अन्ना हजारे ने कहा कि आज विधायक और सांसद जनता की शिकायत से डरते है, कहीं कार्रवाई ना हो जाए। जबकि कांग्रेस ने 2011 में बिल को कमजोर करके बनाया था। जिसका कोई मतलब नहीं है।

उन्होंने कहा कि लोकपाल और लोकायुक्त की नियुक्त का कानून 2013 में ही पारित हो चुका है,लेकिन पांच साल बीत जाने के बाद भी इस पर अमल नहीं किया गया है। नई सरकार आई तो थोड़ी उम्मीद जागी, लेकिन इतने लंबे समय तक कानून को लटकाए रखने की वजह से मोदी सरकार की मंशा पर पूरे देश को शक पैदा होने लगा है। सरकार इसके प्रावधानों में संशोधन करके उसके पूरे उद्देश्य को ही खत्म कर देना चाहती है। अन्ना ने कहा कि लोकपाल,किसान समस्या और चुनाव सुधार के लिए दिल्ली में 23 मार्च से सत्याग्रह करने वाले है। इस बार तो हमारा आंदोलन आश्वासन से खत्म नहीं होगा।