यूपीए की नीति के प्रतीक है माल्या, नीरव

16
3971
डॉ दिलीप अग्निहोत्री
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के भाषण में तर्क और तथ्य तलाशना आसान नहीं होता। वह दूसरे को बेईमान बताते है, अपशब्दों का प्रयोग करते है। लेकिन इसके मद्देनजर अपनी पार्टी को निर्दोष साबित करने में विफल रहते है, वह आर्थिक भगोड़ा की बात करते है, लेकिन उनकी पार्टी का अतीत सामने आ जाता है।
इस समय उनके भाषण से लगता ही नहीं कि वह कांग्रेस के नेता है। ऐसा लगता है कि कार्ल मार्क्स नए रूप में सामने आ गए है। राहुल के भाषण में अम्बानी, विजय माल्या, नीरव मोदी पर हमला होता है, और वंचित वर्ग के लिए उनकी हमदर्दी संभाले नहीं संभल रही है। लेकिन यह कहने से वह खुद कठघरे में आ जाते है।
सवाल है कि क्या विजय माल्या, नीरव मोदी, अम्बानी आदि कांग्रेस के शासन में खाली हाँथ थे। इनमें विजय माल्या, निर्ब मोदी, चौकसी तो कांग्रेस की कृपा से दौलत में खेलने लायक बने थे।
भाजपा प्रवक्ता अनिल बलूनी ने कहा था कि माल्या के हमेशा कांग्रेस के साथ अच्छे संबंध रहे और कांग्रेस तथा उनके रीट्वीट से यह बात खुलकर सामने आ थी।
उसे सारा धन कांग्रेस शासन काल के दौरान ही मिला। मनमोहन सिंह सरकार ने सभी पुराने रिकॉर्ड तोड़ दिए थे। दो हजार तेरह में रिजर्व बैंक के तत्कालीन डिप्टी गवर्नर डॉ. केसी चक्रवर्ती ने कहा था कि एक करोड़ रुपये से ज्यादा के घोटालों का हिस्सा दो हजार चार पांच और दो हजर छह सात के बीच तिहत्तर प्रतिशत  था, जो दो हजार दस ग्यारह और दो हजार बारह तेरह  में नब्बे प्रतिशत हो गया। रिजर्व बैंक की वित्तीय स्थायित्व रिपोर्ट, दो हजार सत्रह के अनुसार एक लाख से ऊपर के घोटाले का कुल मूल्य पांच वर्षो में करीब नौ हजार साथ सौ  करोड़ से बढ़कर सोलह हजार सात सौ सतहत्तर करोड़ रुपये तक पहुंच गया।
रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि दो हजार सोलह सत्रह में घोटाले की कुल राशि का छियासी प्रतिशत हिस्सा कर्जों से जुड़ा था। दो हजार चौदह  में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बनी राजग सरकार को जब बैंकों की गैर निष्पादित आस्तियों यानी एनपीए का पता लगा तो सरकार ने इसमें सुधार का बीड़ा उठा लिया। एनपीए एक तरह से फंसे हुए कर्ज होते हैं।
मोदी सरकार ने यह फैसला लिया है कि उनकी सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को पचास करोड़ रुपये से अधिक के सारे एनपीए खातों की जांच करने और उसमें किसी तरह की गड़बड़ी मिलने पर इसकी सूचना सीबीआई को देने का निर्देश दिया। साथ ही पीएमएलए, फेमा औ अन्य प्रावधानों के उल्लंघन की जांच के लिए उन्हें प्रवर्तन निदेशालय और राजस्व खुफिया को भी जिम्मेदारी दी गई। इससे निगरानी प्रक्रिया मजबूत होगी।
उधर रिजर्व बैंक ने सभी बैंकों को  स्विफ्ट प्रणाली को कोर बैंकिंग प्रणाली के साथ जोड़ने का निर्देश दिया है। अमित शाह ने भी कहा कि विजय माल्या, निराव मोदी आदि को कांग्रेस की सरकार ने फोन से कर्ज दिए थे। वे कांग्रेस के कार्यकाल के दौरान नहीं भागे क्योंकि वे तब की सरकार से  सांठगांठ कर चुके थे। लेकिन मोदी सरकार आई तो वे घबरा गए कि कहीं जेल की सलाखों के पीछे न रहना पड़े। इस लिए भागे। एनपीए तो विपक्षी दल के पूर्ववर्ती शासन के कुकर्म का परिणाम है। राहुल गांधी अपनी चुनावी सभाओं में  नीरव मोदी, विजय माल्या के कर्ज लेकर विदेश भागने का मुद्दा उछालते  हैं। अब जो एनपीए  हो रहे हैं वह कांग्रेस शासन में, आपके भ्रष्टाचार से दिए गए कर्ज के हो रहे हैं।
रिपोर्ट में कहा गया है कि विजय माल्या ने इस लोन का दुरूपयोग किया और इसे विदेशों में ट्रांसफर कर दिया। जब एयरलाइंस डूब रही थी तब माल्या और बैंक अधिकारियों के बीच कई बैठके भी हुई। सीबीआई ने अपनी जांच को प्रवर्तन निदेशालय के साथ साझा किया है। जिसने हाल ही में किंगफिशर, विजय माल्या और आईडीबीआई के अधिकारियों के खिलाफ केस दर्ज किया।
 मुताबिक सीबीआई की दी गई जानकारी की ईडी जांच कर रहा है। जल्द संबधित पक्षों से पूछताछ करेगा। ऐसे पास किया लोन रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि दो हजार नौ में एयरलाइंस को लोन दिया गया जिसे कई चरणों में ट्रांसफर किया गया। नौ सौ करोड़ के लोन के प्रस्ताव को किंगफिशर ने जमा करवाया था।
नरेंद्र मोदी आरोप लगाया था कि एनपीए का जो हल्ला मच रहा है, वो पहले की सरकार में बैठे अर्थशास्त्रियों की इस सरकार को दी गई सबसे बड़ी लायबिलिटी है। गुरुवार को रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा था कि मार्च 2008 में बैंकों ने 1816000 करोड़ रुपये की कुल राश‍ि लोन पर दी थी। मार्च 2014 तक यह बढ़कर 5215000 करोड़ रुपये हो गया। वहीं इस बीच जीडीपी में बढ़ोतरी नहीं हुई। इससे स्पष्ट है कि कांग्रेस सरकार ने गलत  तरीके से कर्ज दिए थे। कई एनपीए अकाउंट को यूपीए शाासनकाल में छुपाकर रखा गया। मोदी सरकार ने दो हजार पन्द्रह में एसेट क्वॉलिटी रिव्यू किया था। कॉरपोरेट को लोन वापस करने के लिए बाध्य करने के प्रावधान किए।
जाहिर है कि विजय माल्या, नीरव  मोदी आदि को लेकर कांग्रेस का वर्तमान सरकार पर हमला आंख में धूल झोंकने जैसा जैसा है। कांग्रेस को लगता है कि जनसामान्य उनकी बात पर विश्वास करेगा। लेकिन यह उंसकी गलतफहमी है।

16 COMMENTS

  1. Thanks for every other informative site. The place else may
    I am getting that type of information written in such a perfect way?
    I have a challenge that I’m just now operating on, and
    I have been at the look out for such information.

  2. Hey there! Quick question that’s completely off topic.
    Do you know how to make your site mobile friendly? My site looks weird when browsing from my iphone4.
    I’m trying to find a theme or plugin that might
    be able to fix this problem. If you have any
    suggestions, please share. With thanks!

  3. I’m amazed, I have to admit. Rarely do I come across a blog that’s equally
    educative and interesting, and let me tell you, you’ve hit the nail on the head.
    The problem is something which not enough people are speaking intelligently about.
    I’m very happy that I found this in my search for something regarding
    this.

  4. Amazing blog! Do you have any tips for aspiring writers?
    I’m planning to start my own website soon but I’m a little lost on everything.
    Would you recommend starting with a free platform like
    Wordpress or go for a paid option? There are so many choices out there that
    I’m totally overwhelmed .. Any recommendations?
    Cheers!

  5. I’ve read a few excellent stuff here. Definitely value bookmarking for revisiting.
    I surprise how much effort you place to make
    the sort of excellent informative site.

  6. When I initially commеnted I clicked the “Notify me when new comments are added” cһeckbox and now each time a comment is added I get three e-mails with
    the same comment. Is tһere any wayy youu ccan remove
    mme from tһat serviϲe? Thanks a lot!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here