इस बार रक्षाबंधन (7 अगस्त) के दिन पड़ेगा चंद्रग्रहण

0
  • रक्षाबंधन पूर्वाह्न 11 बजे से 1:53 बजे तक हो सकेगा
  • 27 साल बाद लगा रक्षाबंधन पर चंद्रग्रहण
  • श्रावणी पूर्णिमा यानी 7 अगस्त रक्षाबंधन के दिन चंद्र ग्रहण होने से उपाकर्म

(जनेऊ धारण करना) नाग पंचमी को होगा। पर्व निर्णय सभा की बैठक में ज्योतिषाचार्यो और विद्वत पंडितों ने विभिन्न पंचागों का अध्ययन करने के बाद यह निर्णय सुनाया। मंगलवार को डॉ. जगदीश चंद्र भट्ट की अध्यक्षता में नवाबी रोड में सभा की बैठक हुई। वरिष्ठ विद्वान डॉ. भुवन चंद्र त्रिपाठी ने कहा कि धर्म सिंधु के मतानुसार श्रावण मास के श्रवण नक्षत्र युक्त दिन अथवा हस्त नक्षत्र युक्त पंचमी के दिन जनेऊ धारण करना चाहिए। 7 अगस्त श्रावण पूर्णिमा को चंद्रग्रहण व भद्रा होने से रक्षाबंधन पूर्वाह्न 11 बजे से 1:53 बजे तक हो सकेगा।

नागपंचमी को लेकर भी इस बार मतभेद है। आचार्यो ने कहा कि नागपंचमी व्रत और पूजन 27 जुलाई को मनाना शास्त्र संवत है, जबकि जनेऊ धारण 28 जुलाई को पूर्वाह्न में होगा। बैठक में डॉ. गोपाल दत्त त्रिपाठी, डॉ. नवीन चंद्र जोशी, आचार्य मनोज पांडे, बसंत पांडे, सुभाष जोशी, योगेश मठपाल, प्रकाश जोशी, आनंद बल्लभ जोशी, बसंत त्रिपाठी, गणेश शास्त्री, दीप भट्ट, उमेश त्रिपाठी मौजूद रहे। वर्ष 1990 के बाद इस बार रक्षाबंधन के दिन चंद्रग्रहण है। पर्व निर्णय सभा की बैठक में आचार्यो ने कहा कि 7 अगस्त को रात्रि 10:52 बजे से 12:49 बजे तक चंद्रग्रहण रहेगा।