सही पकड़े हैं: इन बोर्डों में उर्दू का दूर दूर तक कोई ज़िक्र नहीं

2

अदभुत विरासत-अनूठे अनुभव! नवाबों का शहर लखनऊ नज़ाकत व नफ़ासत के नाम से जाना जाता है तो दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग द्वारा लगाए गए ऐतिहासिक धरोहरों व धार्मिक स्थलों पर बोर्ड पर हिन्दी में लिखे इमारतों के नामों को ग़लत शब्दों में दर्शाया गया है। जैसे जामा मस्जिद में “ज़ामा”, शाहनजफ़ इमामबाड़े का नाम “शाह नज़फ”, व नवाब वाजिद अली शाह प्राणी उद्यान के नाम में “वाज़िद” जैसे शब्दों का प्रयोग किया गया है। ख़ास बात ये है के इन बोर्डों में उर्दू का दूर दूर तक कोई ज़िक्र नहीं है।

फ़ोटो आज़म हुसैन

2 COMMENTS

Comments are closed.