संघर्ष समिति ने शुरू की ‘‘मान्यवर कांशीराम निर्धन छात्र/ छात्रा आर्थिक सहायता योजना‘‘

0
61

प्रदेश में विगत कई वर्षों से प्राथमिक/उच्च प्राथमिक विद्यालयों में समाप्त कर दी गयी छात्रवृत्ति योजना, जिसके मद्देनजर आरक्षण समर्थकों ने बाबा साहब पे बैक टू सोसाइटी के तहत किया यह बड़ा ऐलान

लखनऊ, 14 मार्च, 2021: बामसेफ संस्थापक मान्यवर कांशीराम साहब की जयन्ती 15 मार्च की पूर्व संध्या पर आज आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति, उप्र संयोजक मण्डल की एक अहम बैठक में बड़ा ऐलान किया गया। पूरे प्रदेश में विगत कई वर्षों से प्राथमिक/उच्च प्राथमिक विद्यालयों में समाप्त कर दी गयी छात्रवृत्ति योजना के चलते दलित व पिछड़े वर्ग के लाखों बच्चे पूरे प्रदेश में विधिवत शिक्षा ग्रहण नहीं कर पा रहे हैं, जिसके मद्देनजर प्रदेश के 8 लाख आरक्षण समर्थक कार्मिकों ने अब यह बड़ा फैसला लिया है कि बाबा साहब पे बैक टू सोसाइटी के तहत ऐसे निर्धन दलित व पिछड़े वर्ग के बच्चों को आर्थिक सहायता उपलब्ध करायेंगे। जिसे ‘‘मान्यवर कांशीराम निर्धन छात्र/छात्रा आर्थिक सहायता योजना‘‘ का नाम दिया गया है।

जिसके चयन में प्रदेश में कार्यरत 2 लाख आरक्षण समर्थक सहायक अध्यापक/प्रधानाचार्य अपनी अहम भूमिका अदाकर दलित व पिछड़े वर्ग के निर्धन छात्र/छात्राओं का चयन करेंगे। जिसके बाद आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति,उप्र संयोजक मण्डल द्वारा उन्हें छात्रवृत्ति वितरित की जायेगी। आज की अहम बैठक में यह भी फैसला लिया गया है कि कल मान्यवर कांशीराम साहब की जयन्ती पूरे प्रदेष में धूमधाम से मनायी जायेगी। सभी आरक्षण समर्थक कार्मिक अपने-अपने जनपदों में सुबह 7 से 9 बजे के बीच मान्यवर साहब को कोविड प्रोटोकाल का ध्यान रखते हुए श्रद्धासुमन अर्पित कर अपने कार्यस्थल को प्रस्थान करेंगे।

आरक्षण समर्थक हर जनपद में सर्वप्रथम 100 छात्र/छात्राओं का चयन करेंगे जिसकी शुरूआत लखनऊ से बाबा साहब की जयन्ती की पूर्व संध्या पर कर दी जायेगी। चयन की प्रक्रिया के लिये एक कमेटी का गठन कर दिया गया है।

आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति के संयोजक अवधेश कुमार वर्मा, डा रामषब्द जैसवारा, केबीराम, आरपी केन, अजय कुमार, अन्जनी कुमार, जितेन्द्र कुमार, बनी सिंह, पीएम प्रभाकर, एसपी सिंह, प्रेमचन्द्र, अषोक सोनकर, श्रीनिवास, प्रभूषंकर, रामेन्द्र कुमार, अरविन्द कुमार, सुनील कनौजिया ने कहा मान्यवर कांशीराम साहब ने देश में सबसे पहले दलित व पिछड़े वर्ग के कार्मिकों को एकजुट कर बामसेफ की स्थापना की। जिसके बाद पूरे देश में कार्मिकों की एकजुटता को नई दिशा मिली और वह अपने अधिकारों के प्रति सजग होकर लगातार लड़ाई लड़ रहे हैं। कल मान्यवर कांषीराम साहब की जयन्ती के उपलक्ष्य में आरक्षण समर्थक कार्मिक सुबह 7 बजे गोमती नगर में मान्यवर कांषीराम साहब की प्रतिमा पर श्रद्धासुमन अर्पित करेंगे।

संघर्ष समिति के नेताओं ने कहा हम अपनी पदोन्नति में आरक्षण की लड़ाई को लड़ते हुए सामाजिक दायित्वों का निर्वहन भी लगातार करते रहेंगे, जिससे समाज को नई दिषा मिले और बाबा साहब डा. भीमराव अम्बेडकर के रास्ते पर चलकर आरक्षण समर्थक मान्यवर कांषीराम की नीतियों पर चलकर अपनी संवैधानिक लड़ाई को आगे बढ़ाते हुए अपना अधिकार प्राप्त कर सकें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here