#SaveHindonRiver: नदी के किनारे पर लगाये गये पांच सौ से भी अधिक पौधे

0
510
  • #SaveHindonRiver की स्वच्छता का अभियान ग्राम तिलवाडा से आरम्भ 
  • किसानों, नौजवानों और महिलाओं ने की बडी संख्या में शिरकत
  • लिया संकल्प: कोई भी पदयात्री प्लास्टिक की बोतलें साथ नही लायेगा और अगर लाता भी है तो उसे सडक के किनारों पर नही फेंकेगा
ग्रेटर नोएडा 17 सितम्बर। 20 साल पूर्व तक स्वच्छ पानी की निर्मल धारा आज एक गंदे नाले में तब्दील हो चुकी है और हिन्दुस्तान के दो नामचीन शहर नोएडा व ग्रेटर नोएडा के मध्य स्थित यह हिंडन नदी आज अपने प्रति लोगों की बेरूखी से आहत होकर, अपने अस्तित्व की आखिरी लडाई लड रही है। इसी को देखते हुए आज को विधायक जेवर धीरेन्द्र सिंह ने ग्रेटर नोएडा के विभिन्न सामाजिक संगठन जैसे एक्टिव सिटीजन टीम व ग्रामीण क्षेत्र के सैंकडों किसान, नौजवान और मजदूरों के सहयोग से पूर्व निर्धारित कार्यक्रम “नदी की स्वच्छता” के लिए ग्राम तिलवाडा से मोमनाथल तक पैदल मार्च किया।
इस आयोजन में तिलावाडा पहुॅचने वाले सैंकडों पदयात्री व वहां के ग्रामीणों ने बडी गर्मजोशी से तथा खीर खिलाकर स्वागत किया। यमुना और हिंडन नदी के समागम स्थल पर एक साथ 150 लोगों ने एक-एक पौधे लगाकर, नदी की स्वच्छता के अभियान का श्रीगणेश किया। आज के इस कार्यक्रम में पांच सौ से भी अधिक पौधे नदी के किनारे पर लगाये गये। पैदल यात्रियों ने नाव के माध्यम से नदी पार कर, मोमनाथल के प्राइमरी स्कूल पर पहुॅचकर, प्रथम चरण की पद यात्रा को समाप्त किया। विधायक जेवर धीरेन्द्र सिंह ने उपस्थित ग्रामीणों व पदयात्रियों के सहयोग व उनके जज्बे पर आभार व्यक्त करते हुए आहावान किया कि ’आगे से कोई भी पदयात्री प्लास्टिक की बोतलें साथ नही लायेगा और अगर लाता भी है तो उसे सडक के किनारों पर नही फेंकेगा। अगले चरण की यात्रा से पूर्व वृहद वृक्षारोपण के माध्यम से नदी के आस-पास के वातावरण को प्रदूषण मुक्त किये जाने का प्रयास किया जायेगा।’ 
आज काफी संख्या में मुस्लिम भाईयों ने भी भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री मा. नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन के उपलक्ष्य में यमुना और हिंडन नदी के समागम स्थल पर उनकी लम्बी उम्र के लिए दुआ मांगी।
आज के इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के श्री आनन्द प्रताप सिंह, डा. सुशील सिंह, डा. मनमोहन सिंह, डा. विवेक सिंह, डा. वी.डी.सिंह, डा. संतोष सिंह, विभिन्न सामाजिक संगठनों के पूर्वांचल सोसाइटी के परशुराम यादव, उत्तराखण्ड समिति के ए.के.सिंह, जय सिंह रावत, विशाल शर्मा, कैप्टन रोहित सक्सैना, आलोक साध, आर.के.शाही, सुनिता वैद्य, सूफिया शरीक, आशिष शर्मा, सरदार मंजीत सिंह, मनोज गर्ग तथा धर्मेन्द्र भाटी, ओमकार भाटी, दिनेश भाटी, राम सिंह नेता जी, बिजेन्द्र सिंह, प्रशान्त, मौज्जम खांन, मंशूर खांन, गिर्राज शर्मा, इकबाल खांन, धर्मेन्द्र सिंह, अमित पंडित, राकेश सिंह, राकेश राघव, नीरज भाटी, सतीश शर्मा, नकूल शर्मा, सुरेन्द्र चैहान, विकास सिंह, सचिन, निरंजन सिंह, श्रीओम शर्मा, चन्द्रपाल सिंह, रविन्द्र भाटी, जितेन्द्र सिंह, हिफर्जुरहमान, शाबिर खांन, गजब सिंह, जयपाल सिंह, अमरपाल सिंह, सुरेश शर्मा, तेजवीर सिंह, भोलू शर्मा, श्रीराम रावत, प्रमोद, सुशील शर्मा  आदि सैंकडों लोग मौजूद रहे।