विकास दुबे का चार राज्यों की सीमा पार करने में पुलिस व सत्ता का भी रहा होगा गठजोड़: अखिलेश यादव

0
366
file photo

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा विकास की उज्जैन से गिरफ्तारी सुनियोजित रणनीति का हिस्सा 

कानपुर के बिकरू गांव में आठ पुलिस कर्मियों की हत्या के आरोपित विकास दुबे की उज्जैन में जिस तरह गिरफ्तारी दिखाई गई है, वह निश्चित ही एक सुनियोजित रणनीति का हिस्सा है। चार राज्यों की सीमांए पार कर, लाॅकडाउन के दौर की सुरक्षा व्यवस्था को धता बताकर, कुख्यात अपराधी छह दिनों तक पुलिस की आंखों में धूल झोंकता रहा इसके पीछे माफिया, पुलिस और सत्ता का गठजोड़ भी रहा होगा। इसलिए उसके मोबाइल की काॅलडिटेल रिपोर्ट (सी.डी.आर.) सार्वजनिक की जानी चाहिए ताकि सभी की मिली भगत का भंडाफोड़ हो सके। ये बातें समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरुवार को कही।

उन्होंने कहा कि कानपुर की घटना ने उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार का चोला भी उतार दिया है और मुखौटा भी। कानपुर नगर की इस घटना ने पुलिस बल के खुफिया तंत्र की भी पोल खोल दी है। एक बड़ी नृशंस घटना के पहले और बाद में आरोपी को जिस तरह सहयोग मिला वह जाहिर करता है कि व्यवस्था में कितनी सड़ांध पैदा हो गई है। थाना पुलिस अपराधी चलाने लगेंगे और पुलिस कर्मी अपराधी के घर सलामी बजाएंगे तो कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज तो रह नहीं जाएगी।

अखिलेश यादव ने कहा कि बिकरू काण्ड के कातिल और इसके सहयोगियों तथा जिनका एनकाउण्टर हो चुका है। उन सभी के पांच वर्ष से अब तक की सी.डी.आर. सरकार जारी कर देगी तो सच्चाई सामने आ जाएगी कि किसके किस नेता, अफसर से सम्पर्क थे? आखिर किसके दबाव में पुलिस बिना तैयारी दबिश डालने रात में पहुंच गई थी।

उन्होंने कहा कि हत्याकाण्ड के बाद हत्यारा दो दिन तक आसपास रहा लेकिन पुलिस उसे पकड़ नहीं सकी। इसके अलावा भी कई बातें छुपाई जा रही है। इनका खुलासा सार्वजनिक होना चाहिए। जहां तक समाजवादी पार्टी का सम्बंध है उसका इस घटनाचक्र से कोई लेना देना नहीं है। समाजवादी पार्टी को बदनाम करने के अभियान में भाजपा लगी रहती है, क्योंकि उसको मालूम है कि उत्तर प्रदेश में उसकी सत्ता को असल चुनौती समाजवादी पार्टी से ही मिलती है। भाजपा की राजनीति स्वस्थ नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here