बासी रोटी खाने के फायदे जानकर आप चौक जायेंगे

0
1503

कई बार रात को जब सब खाना खा लेते है तो रोटी बच जाती सुबह हम या तो इसे फैंक देते है या फिर कुत्तो को डाल देते है |मगर हम आपको ये बता दे की आप रात की बची हुए रोटी फेंके नहीं सुबह आप इसका इस्तेमाल करे फिर देखे आपके शरीर को क्या क्या फायदे मिलते है |

वैसे भी अगर हम दिनभर चाहे कुछ भी खा ले मगर हमारा पेट सिर्फ रोटी से ही भरता है क्योकि रोटी में फाइबर बहुत जयादा मात्रा में होता है |और जिससे भोजन को पचाने में मदद मिलती है |और हमारा पेट भरा भरा रहता है |अगर हम रात की बची हुए रोटी को सुबह ढूध के साथ खाये तो इससे हमें बहुत ही फायदा मिलता है और हमारी सेहत भी सही रहती है पहले बड़े बुजर्ग हमेशा रात की बची हुए रोटी को सुबह ढूध में डालकर या फिर उबालकर खाते थे जिससे उनका स्वस्थ्य ठीक रहता था |तो आइये जानते है बासी रोटी खाने के हैरान कर देने वाले फायदे :
बासी रोटी को ढूध के साथ खाने से डॉयबिटीज कण्ट्रोल में रहती है |क्योकि आजकल डॉयबिटीज रोगियों की संख्या बढ़ती जा रही है |और इसके कारण हम कई बीमारियों से घिर जाते है |अगर किसी के ब्लड में शुगर लेवल बाद रहा हो तो सुबह रात की बासी दो रोटी को फीके ढूध में डालकर खाने से काफी फायदा मिलता है और उसे मधुमेह रोग से मुक्ति मिल जाती है |
बासी रोटी को ढूध में डालकर खाने से ब्लड प्रेशर कण्ट्रोल में रहता है |ब्लड प्रेशर की समस्या आज हर दूसरे आदमी को है चाहे वो उम्र में छोटा हो या बड़ा तो ऐसे में रात की बची हुए दो बासी रोटी को ठन्डे ढूध में डालकर खाने से ब्लड प्रेशर कण्ट्रोल में रहता है |
बासी रोटी को ढूध के साथ खाने से शरीर का तापमान सही रहता है |क्योकि कई बार गर्मियों में हमारे शरीर का तापमान ज्यादा बढ़ जाता है अगर ऐसे में इस उपाय का प्रयोग किया जाये तो शरीर का तापमान सही रहता है |
बासी रोटी को ढूध के साथ खाने से पेट की हर समस्या का इलाज हो जाता है |वैसे अगर हमारा पेट ख़राब रहेगा तो हम कई बीमारियों से घिर जाते है |अगर किसी को पेट में एसिडिटी ,जलन ,या फिर पाचन क्रिया सही रूप से कार्य नहीं करता तो ऐसे में बासी रोटी को ढूध में डालकर खाने से इस समस्या से छुटकारा मिल जाता है |
बासी रोटी को ढूध में डालकर खाने से हमरी हेल्थ से जुडी समस्या का हल हो जाता है और हम कई बीमारियों से बच जाते है और इसको खाने से कई लोग जो दुबले पतले होते है उनका शरीर भी भर जाता है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here