आर्थिक आधार पर आरक्षण लागू करें सरकार, तभी होगा सबका विकास: रवीन्द्र सिंह

0
66
  • समान शिक्षा और समान अधिकार को लेकर तीसरे दिन भी चला सघन जनसंपर्क अभियान
  • 25 फरवरी को पटना में होगा सवर्णो का विशाल शक्ति प्रदर्शन

औरंगाबाद, 30 दिसंबर 2018: राष्ट्रीय समान अधिकार यात्रा का पांचवा चरण रविवार को औरंगाबाद में सफलतापूर्व संपन्‍न हो गया। यात्रा के तीसरे दिन जिले के खरंटी, बभनडीहा, चंदा, धनौती, गढ़ौली, मटपा इत्यादि जगहों पर सभा के साथ जनसम्पर्क किया गया! इस दौरान यात्रा को लोगों का भारी समर्थन मिला। मालूम हो कि यात्रा के सभी चरण पूरे होने पर 25 फरवरी 2019 को गाँधी मैदान पटना में सवर्ण महारैली का आयोजन किया जायेगा। विभिन्न जगहों पर सभा को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय समान अधिकार यात्रा के संयोजक ई. रविन्द्र कुमार सिंह ने कहा कि देश में सवर्णों का योगदान हमेशा से राष्‍ट्र और समाज निर्माण का रहा है। मगर आज तक तमाम राजनीतिक दलों ने आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के बीच जातियता का जहर बोकर समाज में विभेद पैदा करने का काम किया है।

उन्‍होंने कहा कि हम चाहते हैं कि देश की समाजिक समरसता को बनाये रखने के लिए समाज में शिक्षा, रोजगार, आर्थिक मजबूती और देश की प्रगति होनी चाहिए। हमारी मांग है कि देश में एक समान शिक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य व्यवस्था और युवाओं के लिए रोजगार सुनिश्‍चित हो। आर्थिक आधार पर आरक्षण लागू करने की मांग करते हुए कहा कि हम आरक्षण का विरोध नहीं करते, लेकिन आरक्षण का निर्धारण आर्थिक आधार पर हो। हमारी एकजुटता ही हमारे अधिकारों की सुरक्षा व संरक्षा को सबल देगा। आजादी के सात दशक बाद भी सावर्णो के कल्याण के लिए किसी भी सरकार ने कोई कारगर कदम नही उठाया। उन्‍होंने कहा कि एकबार फिर से राष्ट्र पर राजनैतिक खतरें मंडरा रहा है।

वही रोहित सिंह रैकवार ने नेताओं को आड़े हांथों लेते हुए कहा कि सर्वण समाज ने देश की तरक्‍की के लिए स्‍कूलों, कॉलेजों, अस्‍पतालों समेत विकास के अन्‍य कार्यों के लिए जमीन और धन दौलत दान में दिया, ताकि कोई पीछे न रहे और सब आगे बढ़े। लेकिन हमें मिला क्‍या। आरक्षण के नाम पर हमारी जबरदस्‍त अनदेखी हुई। हम हर जगह से उपेक्षित कर दिया गया।  हमारे विधायक-सांसद सदन में बैठकर टेबल थपथपाते हैं, मगर हमारे अधिकार की अनदेखी पर चुप्‍पी साध लेते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here