पाॅलिथिन हटाने का बच्चों ने दिया संदेश, कहा स्वच्छता अपनाने से बनेगी बात

0
649

पुरस्कृत होंगी 32 विशिष्ट प्रतिभाएं

लखनऊ, 29 सितम्बर 2019: किसी ने पाॅलिथिन और प्रदूषण को पृथ्वी को निगल रहे अजगर का रूप दिया तो किसी ने इसका गाय, गिद्ध और दूसरे प्राणियों पर पड़ने वाले असर को चित्रित किया। विद्या भारती पूर्वी उप्र द्वारा 26 अगस्त से आयोजित ‘स्वच्छता एवं पॉलीथिन उन्मूलन’ विषयक प्रतियोगिताओं का अंतिम निर्णायक दौर आज सरस्वती शिशु मंदिर निरालानगर में चला। अब कल यहां सुबह 10.30 बजे माधव सभागार में विजेताओं को मंत्रियों व विशिष्टजनों की उपस्थित में पुरस्कृत किया जायेगा।

चित्र, स्लोगन, निबंध व कविता लेखन की यह प्रतियोगिताएं जल, जंगल, जीव और जमीन के प्रति व्यापक जन जागृति और भागीदारी बढ़ाने के उद्देश्य से चार स्तरों पर हुईं। प्रतियोगिता का शुभारंभ क्षेत्रीय सेवा प्रमुख योगेश कुमार, भारतीय शिक्षा समिति के मंत्री हरेंद्र श्रीवास्तव, बालिका शिक्षा प्रमुख उमाशंकर मिश्रा, प्रदेश निरीक्षक राजेंद्र बाबू तथा क्षेत्रीय प्रचार प्रमुख सौरभ मिश्रा ने दीप प्रज्वलित कर किया।

मुख्य वक्ता योगेश कुमार ने कहा कि हमारे समाज में बहुत प्रकार की समस्याएं हैं, उनमें प्रधानमंत्री द्वारा चलाये स्वास्थ्य और स्वच्छता अपनाने के अभियान को विद्याभारती ने आवश्यक मानकर प्राथमिकता देते हुए जागरूकता की दृष्टि से ऐसे आयोजन शुरू किये हैं। स्वच्छता व पर्यावरण सुरक्षा के प्रति प्रेरित करते हुए उन्होंने कहा कि स्वच्छता अभियान संपूर्ण देश में चलाना बहुत कठिन पर आवश्यक है, इसको हमें अपने घर से प्रारंभ करना होगा।

उन्होंने प्रधानमंत्री के नारों ‘क्लीन इंडिया, हेल्थी इंडिया वेल्थी इंडिया’ का भी उदाहरण दिया। पूर्व शैक्षिक प्रमुख डॉ.शैलेश मिश्रा, वरिष्ठ पत्रकार भास्कर दूबे, राष्ट्रीय सांस्कृतिक संपदा अनुसंधानशाला लखनऊ के कर्मवीर सिंह, क्षेत्रीय सह संयोजक दिवाकर मिश्र, संभाग निरीक्षक रणवीर सिंह व सुरेश कुमार, प्रांतीय परीक्षा प्रमुख अवधेश कुमार तथा प्रधानाचार्य हरेराम पांडे के साथ प्रतिभागी विद्यालयों के के प्रधानाचार्य शिक्षक आदि भी उपस्थित रहे।  संरक्षक, आचार्य तथा व्यवस्था में लगे प्रचार विभाग की टीम व अन्य गणमान्य लोग मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here