चलते रहने का नाम ही जीवन है

0
391

चलते रहने का नाम ही जीवन है। जीवन का तात्पर्य ही गति है, तो सब कुछ ठीक, अन्यथा कहीं रुक गये, तो हमारे लिए कुछ नहीं रुकेगा। इस सृष्टि में सब अपने इच्छित लक्ष्य के लिए क्रियाशील हैं। गतिशीलता सद्विचार पर आधारित होती है। इन सद्विचार को कहां खोजा जाये? अच्छाई के लिए अन्वेषण करना होगा, स्वयं से सवाल करना होगा और सत्य के साथ खड़ा होना होगा।

अच्छाई हर पल, हर जगह है। हम कौतुक होकर खोजेंगे, तो मिलेगा अनुभव करेंगे, तो हरेक वस्तु या तत्व स्वयं को प्रकट करेगा. हम पर्याप्त करुणा से परिपूर्ण हैं, तो सृष्टि के हरेक तत्व अपने रहस्य को उद्घाटित कर देंगे।

Image may contain: ocean, sky, outdoor, water and nature

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here