चीन का नई चाल: अब अरुणाचल प्रदेश को बताया अपना हिस्सा

0
201

भारतीय बंधकों पर नहीं दिया जवाब

चीन अपनी हिमाकत से फिलहाल बाज नहीं आ रहा है। भारत के अरुणाचल प्रदेश से 5 भारतीय युवकों का अपहरण करने वाला चीन अब दादागिरी पर उतारू हो गया है। एक मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजिन से जब इन युवकों के बारे में पूछा गया तो उसने भारतीयों के बारे में जानकारी देने की बजाय अरुणाचल प्रदेश को चीन का हिस्सा बता दिया। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना के अनुरोध के बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है।

रिपोर्ट के अनुसार लिजिन ने कहा, चीन ने कभी अरुणाचल प्रदेश को मान्यता नहीं दी है जो चीन का दक्षिणी तिब्बत इलाका है। भारतीय सेना के पीएलए को भारतीयों को छोड़ने के लिए संदेश भेजने के सवाल पर चीनी प्रवक्ता ने कहा कि हमारे पास अभी इस बात की कोई जानकारी नहीं है।

बता दें कि अरुणाचल प्रदेश के 5 युवकों की अपहरण की जांच के लिए एक पुलिस टीम को मैकमोहन लाइन से सटे सीमावर्ती क्षेत्र में भेजा गया है। यह लाइन अपर सुबनसिरी जिले को तिब्बत से अलग करती है। कहा जा रहा है कि इन युवकों को चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने उनको अगवा किया है। गांववालों का दावा है कि ये युवक भारतीय सेना के लिए पोर्टर के रूप में काम करते थे जो दुर्गम क्षेत्रों में सामान की ढुलाई करते थे। यह भी कहा जा रहा है कि ये युवक संभवत- जंगल की ओर गए होंगे जहां से ये चीनी सेना के हत्थे चढ़े।

रिपोर्ट के अनुसार लापता आदिवासी युवकों में से एक के भाई ने फेसबुक पर पोस्ट किया था कि चीनी सेना नाचो के पास इंटरनैशनल बॉर्डर (आईबी) से भारतीय सेना के सेरा-7 पेट्रोलिंग इलाके से भारतीय युवकों को उठा ले गई है। यह जगह जिला मुख्यालय दापोर्जियो से 120 किमी दूर उत्तर की ओर है।

फेसबुक पोस्ट के बाद ही जिला प्रशासन अलर्ट हुआ। नाचो गांव सेरा-7 से करीब 10 से 12 किमी दूर स्थित है, यहां के लोगों का दावा है कि लापता युवक पोर्टर के रूप में सेना से जुड़े हुए थे जो सामान की ढुलाई करते हैं
और इलाके में सड़क व मोबाइल नेटवर्क न होने की वजह से वे गाइड के रूप में काम करते हैं। गांव वालों का कहना है कि गुरुवार को ये युवक सैन्यकर्मियों के साथ बॉर्डर इलाके में गए थे।

पूर्व मंत्री निनॉन्ग एरिंग ने कहा, यहां के लोगों का सेना के लिए पोर्टर के रूप में काम करना आम बात है। उन्होंने आशंका जताई, लापता युवक आर्मी पोस्ट में सामान की ढुलाई करने के बाद जरूर जंगलों में शिकार करने या जड़ी-बूटी इकट्ठा करने गए होंगे। लापता युवकों की पहचान टोच सिंगकम, प्रसात रिंगलिंग, डोंगटू एबिया, तनु बाकेर और गारू डिरी के रूप में हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here