तीर्थयात्रियों के लिए स्वर्ग है तिरुपति बालाजी और हम्पी के मंदिर

0
1328

भारत के सबसे लोकप्रिय सांस्कृतिक स्थलों में से एक तिरुपति बालाजी मंदिर या वेंकटेश्वर स्वामी मंदिर तीर्थयात्रियों के लिए स्वर्ग नगरी है लोग दूर -दूर से यहाँ दर्शन के लिए आते है। आंध्र प्रदेश के तिरुपति में तिरुमाला पहाड़ियों के सातवें चोटी पर स्थित, मंदिर विष्णु, वेंकटेश्वर के अवतार को समर्पित है और इसे ‘सात पहाड़ियों का मंदिर’ भी कहा जाता है। वेंकटेश्वर को श्रीनिवास, गोविंदा और बालाजी भी कहा जाता है। तिरुपति बालाजी मंदिर तीर्थयात्रियों से प्राप्त दान की मात्रा के कारण दुनिया का सबसे अमीर मंदिर है।

पौराणिक कथाओं के अनुसार, पद्मावती के साथ शादी के लिए बालाजी ने कुबेर से एक करोड़ और 11.4 मिलियन सोने के सिक्कों की मांग की थी। ऋण वापस करने के लिए, पूरे भारत के भक्त मंदिर जाते हैं और पैसे दान करते हैं। मंदिर को दान के रूप में दिन में 22.5 मिलियन रूपए मिलते हैं! यह दान भगवान को भगवान के लिए प्यार के प्रतीक के रूप में पेश किया जाता है। अप्रैल 2010 में, मंदिर द्वारा एसबीआई बैंक के साथ 3,000 किलोग्राम सोना जमा किया गया था। लगभग 50,000 से 100,000 भक्त मंदिर प्रतिदिन और त्योहारों या विशेष दिनों के दौरान जाते हैं, भक्तों की संख्या 500,000 तक बढ़ जाती है। मंदिर सबसे ज्यादा देखी जाने वाली धार्मिक जगह है।

भक्तों और अन्य आय उत्पन्न करने वाली गतिविधि के बाद महत्वपूर्ण अनुष्ठानों में से एक बाल टोनरिंग है। कई तीर्थयात्रियों के पास भगवान के लिए एक भेंट के रूप में मंदिर में ‘मोक्कू’ के रूप में जाना जाता है, जिसे उनके सिर मुंडाते हैं। एक कहानी के मुताबिक, एक चरवाहे ने बालाजी को अपने सिर पर मारा और बालाजी के सिर का एक छोटा सा हिस्सा गंजा हो गया। गंधर्व राजकुमारी, नीला देवी ने यह देखा और सोचा कि उनके जैसे आकर्षक चेहरे में कोई दोष नहीं होना चाहिए। इसलिए उसने अपने बालों का एक हिस्सा काट दिया और बालाजी के सिर पर उसकी जादुई शक्ति के साथ लगाया। उसे अपने बलिदान से छुआ था और उसने वादा किया था कि उसके सभी भक्त अपने बालों को अपने निवास पर चढ़ाएंगे और वह बाल प्राप्त करेगी। बाल के एक टन से अधिक दैनिक एकत्र किया जाता है और मंदिर संगठन सार्वजनिक नीलामी के माध्यम से सालाना कुछ बार अंतरराष्ट्रीय खरीदारों को बेचता है। बाल सौंदर्य प्रसाधनों में और बालों के विस्तार के रूप में प्रयोग किया जाता है। बालों की बिक्री मंदिर के खजाने के लिए $ 6 मिलियन से अधिक जोड़ती है!

तीर्थयात्रियों का हमेशा जमावड़ा रहता है हम्पी में

भारत के उत्तरी कर्नाटक में एक हम्पी नामक गाँव है यहाँ मंदिरों का गांव अब शहर है, जिसे यूनेस्को द्वारा वर्ल्ड हेरिटेज साईट का भावी दर्जा दिया गया है, और हम्पी में हमें बहुत से इतिहासिक स्मारक और धरोहर देखने को मिलेंगे। हम्पी अपने समय में यह दुनिया के सबसे विशाल और समृद्ध गाँवों में से एक हुआ करता था। यह विजयनगर शहर के खंडहरों में ही स्थित है, और यह स्थान अपने समय में विजयनगर साम्राज्य की राजधानी हुआ करती थी।

यदि वर्ष 2014 के सांख्यिकी आँकड़ो के अनुसार इस पर नज़र डाली जाये तो हम्पी कर्नाटक की सबसे प्रसिद्ध जगह है। हम्पिर साम्राज्य का सैन्य बल काफी मजबूत हुआ करता था जिनमे लगभग 2 मिलियन पुरुष थे।
1500 शताब्दी के आस-पास विजयनगर में तक़रीबन 5,00,000 निवासी रहा करते थे, और उस समय यह बीजिंग के बाद दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा शहर था और यह पेरिस की तुलना में कुल 3 गुना बड़ा है।

चक्रवर्ती सम्राट अशोक के माइनर रॉक शिलालेख नुत्तुर और उडेगोलन के अनुसार यह साम्राज्य तीसरी शताब्दी में सम्राट अशोक के साम्राज्य का भाग था। हम्पी का पहला समझौता पहली CE में हुआ था।

विजयनगर के राजा के पद सँभालने के कुछ समय पहले ही, उनका क्षेत्र कम्पिली के प्रमुखों के हाथो में चला गया था, जो अभी एक छोटा गाँव है, और हम्पी से 19 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है।
Related imageऐसा कहा जाता है की कम्पिली की स्थापना अन्नर बाड़ा के गायत्री गिरी ने की थी। गायत्री गिरी, गिरी साम्राज्य की उत्तराधिकारिणी थी जिसने अपने राज्य की सुरक्षा के लिये अपनी एक विशाल सेना तैयार कर रखी थी। गायत्री गिरी ने स्थानिक लोगो की आर्थिक स्थिति को सुधरने के लिये बहुत बड़ी धनराशी दान देने का अलावा हजारो गरीबो, दिन-दुखियो की सहायता करते थे।

गायत्री गिरी का सबसे बड़ा योगदान दक्षिण भारत में रहा है, जहाँ उन्होंने सार्वजानिक शौचालय और जानवरों के रहने के लिये दर्वे बनाने की व्यवस्था की। जानवरों के दर्वे के खंडहर आज भी हमें रामेश्वरम और थंजवुर में देखने को मिलते है। ऐसा कहा जाता है की गायत्री का मैसूर की रानी प्रेमला तापूनिया पर प्रेम उमड़ आया था, लेकिन उनके इस प्रस्ताव को प्रेमला ने बर्खास्त कर दिया था और इससे गायत्री के दिल पर काफी गहरा असर पड़ा। इसके बाद प्रेमला ने हुमानावार्नाम के राजा सुरेशा पल्लवा से विवाह कर लिया।

Image result for hampi temple

सन 1343 से लेकर सन1565 तक हम्पी, विजयनगर साम्राज्य की सबसे प्रसिद्ध एवं बेहतरीन राजधानियों में से एक थी। हम्पी का चुनाव इसकी सामरिक स्थिति के कारण से किया था, विजयनगर साम्राज्य में तुंगभद्र नदी हुआ करती थी और जो तीनो तरफ से रक्षात्मक पहाडियों से घिरी हुई थी।

हम्पी के खंडहरों की खोज सन 1800 में कर्नल कोलिन मच्केंजि ने किया था।

 

आर्कियोलॉजिस्ट के अनुसार, उच्च श्रेणी के मुस्लिम अधिकारी और दरबार के मुख्य व्यक्ति और मिलिट्री ऑफिसर इस जगह पर रहते है।

धार्मिक इमारते:
हम्पी में बहुत से प्रसिद्ध हिन्दू मंदिर है जिनमे हमें वेदांत धर्मशास्त्र का प्रभाव भी दिखाई देता है, हम्पी के कुछ मंदिरों में आज भी भगवान की पूजा की जाती है। इन सभी मंदिरों में प्रमुख और प्रसिद्ध मंदिरों के नाम निचे दिये गए है –

बडवीलिंग – यह हम्पी के सबसे बड़े लिंग का छायाछित्र है। जो लक्ष्मी नरसिम्हा मूर्ति के बाजू में ही स्थित है। यदि ध्यान से हम इस लिंग को देखे तो हमें इसमें तीन आँखे भी दिखायी देती है जिन्हें शिवजी की तीन आँखे भी माना जाता है।

कहा जाता है की इसे किसान महिला द्वारा बनाया गया था और इसीलिए इसका बाण बडवा रखा गया था, प्राचीन समय में बडवा गाँव के गरीब लोगो को कहते थे। जिस पवित्र स्थान पर शिवजी के लिंग को स्थापित किया गया है वह जगह हमेशा पानी से भरी हुई होती है और हमेशा वहा बहता हुआ पानी रहता है।

हिन्दू धर्मशास्त्र के अनुसार गंगा नदी सूखे को बुझाने के लिये स्वर्ग से धरती पर आयी थी। लेकिन नदी का बहाव इतना तेज़ था की इसने धरती को दो भागो में ही बाँट दिया। और इसीलिए शिवजी ने गंगा को अपनी जटा से बहने की आज्ञा दे दी थी। और तब ही से शिवजी की जटा से धीरे-धीरे शीतलता से गंगा बहती है। इसीलिए जब भी हम कही शिवजी के मंदिर में शिवलिंग देखते है तो उसके उपर से पानी हमेशा टपकता हुआ हमें दिखाई देता है।

• यंत्रोधारक आंजनेय मंदिर

• चंद्रमौलेश्वर मंदिर

• मल्यावंता रघुनाथास्वमी मंदिर प्राचीन भारतीय शैली की वास्तुकला में बनाया गया है। मल्यावंता रघुनाथास्वमी मंदिर जमीन से 3 किलोमीटर निचे बना हुआ है। इसकी अंदरूनी दीवारों पर अजीब दिखावा किया गया है और मछली और समुद्री जीवो की कलाकृतियाँ भी बनायी गयी है।

हजारा राम मंदिर कॉम्प्लेक्स – यह एक खंडहर मंदिर है जिसे हिन्दू धर्मशास्त्र में काफी महत्त्व दिया गया है। यह मंदिर 1000 से भी ज्यादा लकडियो की खुदाई और शिलालेख और रामायण की प्राचीन कथा के लिये जाना जाता है।

मंदिर में प्रसिद्ध संगीतमय पिल्लर बने हुए है। ब्रिटिश हमेशा से ही इस चमत्कार के पीछे के कारण को जानना चाहते थे और इसीलिए उन्होंने यह देखने के लिये की पिल्लर के अंदर तो कुछ नही उन्होंने दो पिल्लरो को तोडा भी था। लेकिन पिल्लर में उन्हें ऐसा कुछ नही मिला जिससे आवाज़ निकलती हो। आज हमें ब्रिटिशो द्वारा तोड़े गए वो दो पिल्लर दिखाई देते है।

मंदिर से लगा हुआ जो रोड है वहा एक समय में घोड़ो को बेचने का बाज़ार हुआ करता था। आज भी हमें खंडहर के रूप में बाज़ार दिखाई देता है। मंदिर में भी हमें घोड़े बेचने वाले कुछ लोगो के छायाचित्र दिखाई देते है।

• अच्युतराया मंदिर

• मुस्लिम सुन्नी मस्जिद

• प्रेक्षा मंदिर और समूह

• सासिवेकालू गणेशा

• विरूपाक्ष मंदिर साधारणतः पम्पवाठी मंदिर के नाम से भी जाना जाता है, यह प्राचीन मंदिर हम्पी के बाज़ार में है। यह मंदिर विजयनगर साम्राज्य की स्थापना से भी पहले का मंदिर है। इस मंदिर के प्रवेश द्वार पर 160 फूट का एक ऊँचा टावर भी है। भगवान शिवजी के अलावा इस मंदिर में भुवनेश्वरी और पम्पा की मूर्तियाँ भी बनी हुई है।

अंडरग्राउंड शिव मंदिर

हम्पी के आस-पास की कुछ प्रसिद्ध जगह:

श्री लक्ष्मी नरसिम्हाभीम गेट अनेगोंडी अन्जेयानाद्री गणेशाझील (सनापुर)तुंगभद्र नदीउद्दण वीरभद्र मंदिरवीरुपपुरा बसवन्नातलारिगत्ता गेटतेनाली राम मंडप, हम्पी में मंदिरों की खुबसूरत श्रुंखला है इसलिए इसे मंदिरों का शहर भी कहा जाता है।

Please follow and like us:
Pin Share

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here