डॉ प्रियंका मर्डर मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट के गठन का आदेश, 3 पुलिसकर्मी सस्पेंड

0
202

नई दिल्ली, 02 दिसंबर, 2019: हैदराबाद में महिला पशु चिकित्सक की रेप के बाद जलाकर हत्या मामले में देश में हर तरफ जस्टिस की मांग उठी है। लोगों में देश के हर राज्य में हो रहे बलात्कार और हत्या के मामले को लेकर जबरदस्त आक्रोश है। तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद की साइबराबाद पुलिस ने शमशाबाद में बुधवार रात महिला पशु चिकित्सक के साथ दुष्कर्म और हत्या मामले में प्राथमिकी दर्ज करने में विलंब करने के कारण एक दरोगा समेत तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है।

मीडिया खबर के अनुसार साइबराबाद पुलिस आयुक्त वीसी सज्जनार ने एक बयान जारी कर कहा कि कर्तव्य में लापरवाही बरतने के मामले की व्यापक जांच रिपोर्ट के आधार पर यह कार्रवाई की गई है। तीनों पुलिसकर्मियों को अगले आदेश तक निलंबित कर दिया गया है।

उन्होंने कहा कि जांच के दौरान इस बात का खुलासा हुआ कि इन अधिकारियों ने पशु चिकित्सक के लापता होने के मामले की प्राथमिकी दर्ज करने में विलंब किया। 27-28 नवम्बर की रात चिकित्सक के परिजन इस मामले की प्राथमिकी दर्ज कराने गए थे। निलंबित दरोगा रवि कुमार शमशाबाद थाने में तैनात था जबकि हेड कांस्टेबल पी वेणुगोपाल रेड्डी और ए सत्यनारायण गौड़ राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा थाने में तैनात थे।

महिला पशु चिकित्सक के बलात्कार और हत्या मामले में पुलिस ने रविवार को कहा कि वह चारों आरोपियों से आगे पूछताछ के लिए अदालत में याचिका दायर कर उनकी हिरासत की मांग करेगी। 

आरोपितों की पैरवी नहीं करेगा बार संघ: तेलंगाना में एक जिला बार संघ ने चारों आरोपियों की पैरवी न करने का रविवार को फैसला लिया। रंगा रेड्डी बार एसोसिएशन के अध्यक्ष मट्टापल्ली श्रीनिवास ने कहा, उन्होंने आरोपियों द्वारा किए जघन्य अपराध के खिलाफ नैतिक और सामाजिक जिम्मेदारी के तहत यह फैसला लिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here