दुख में सुख की अनुभूति करना हर किसी के बस की बात नहीं?

0
522

किसी ने ठीक ही कहा है कि ज़िंदगी का रोना भी कोई रोना है, ज़िंदगी रोकर काटो या हँसकर वह तो कट ही जाती है। सुख और दुख ज़िंदगी के खेल है। इन्हे खेल की तरह खेलते हुए चलने का नाम ही ज़िंदगी है। अगर दुखो को नजरंदाज न किया जाये तो जीना मुश्किल हो जाता है।

दुख का प्रत्यक्ष रूप जितना बड़ा दिखाई देता है अंदर से वह उतना हो खोखला और कमजोर होता है। अगर विचारो को मजबूत बनाकर रखा जाये तो दुख हवा के झोखे के साथ गायब होने वाले पानी के बुलबुलों की तरह होते है। दुख, तकलीफ, आपदाए इंसान की ज़िंदगी के साथ जुड़ी हुई ऐसी अप्रसंगिक घटनाये है जो क्षति पहुंचाकर हमे विचलित कर देती है। कभी कभी तो अविवेकी इंसान सहनशक्ति के अभाव मे अपने होश खो बैठता है।

मुसीबतों को टालने की कोशिश करते हुए भी हमारा मन विचलित हो ही उठता है। आगे बढ़ने के सारे दरवाजे बंद होते देखकर सिर पकड़ कर बैठने के सिवाए कोई ओर रास्ता नजर नहीं आता। आखिर ऐसा क्यो होता है?

कारण यह है कि हमारी नकारात्मक सोच और चिंतन हम पर हावी हो जाते है। कहते है की इंसान जैसा सोचता है वैसा ही बन जाता है। अगर सोच सकरात्मक होगी तो दुख मे भी कही न कही सुख की अनुभूति होगी।

राजू और हरीश की अपनी कपड़ो की दुकान थी। दुर्भाग्यवश आग लगने से दोनों की दुकाने जल गई लेकिन वो दोनों किसी तरह से बच गए। चारो तरफ शोर मच गया। दोनों तरफ के दोस्त और रिश्तेदार उनके घर उनसे मिलने के लिए पहुंचे और गहरी सहानंभूति प्रकट की। राजू बहुत दुखी और निराश था। भगवान पर सारा दोष मढ़ते हुए बोला – हाय अब मेरा क्या होगा? मेरे परिवार का पालन – पोषण कैसे होगा? भगवान को मै ही मिला था क्या? काश मै भी आग मे जल जाता ताकि यह सब न देखना पढ़ता ।

वही दूसरों और जब लोग हरीश के पास पहुँचकर उसका हाल चाल पूछने लगे तो सभी हैरान रह गए। वह बड़ा शांत था। उसके चहेरे पर आशा की किरण झलक रही थी क्योकि उसकी सोच सकरात्मक थी। उसने कहा – मै तो बड़ा खुशनसीब हूँ, भगवान का लाख लाख शुक्रिओ जो मेरी जान बच गई। दुकान तो मै मेहनत करके दुबारा बना लूँगा लेकिन अगर मेरी जान चली जाती तो मेरे परिवार का क्या होता।

इस प्रकार देखा गया कि परिस्थिति तो एक ही थी लेकिन एक आशावान था और दूसरा निराश। दोनों की सोच मे बहुत अंतर था। यह ठीक है की हम अपनी परिस्थितियो और घटनाओ को नहीं बदल सकते लेकिन दृष्टिकोण बदलना तो हमारे हाथ मे ही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here