न्यू ईयर में ‘पीजीआइ ट्रामा’ स्टार्ट करने की कयावद…शुरू

0
606
  • पीपीपी माडल पर लगेंगी सीटी स्कैन, एमआरआई, एक्स-रे आदि
  • सबसे ज्यादा न्यूरो सर्जन्स होंगे पीजीआइ ट्रामा में
  • जनवरी में ट्रामा शुरू करने का लक्ष्य

लखनऊ। रायबरेली रोग स्थित ट्रामा सेंटर को 50 बेड के साथ शुरू करने की कयावद संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान ने शुरू कर दी है। इसके लिए प्रभारी प्रो.राजकुमार ने न केवल निर्माण निगम को अधूरे कार्य अतिशीघ्र पूर्ण करने के निर्देश दिये हैं, वहीं बिजली व्यवस्था दुरूस्त करने के बाद ट्रामा सेंटर संचालन के लिए फैकल्टी व स्टाफ के पदों का भी निर्धारण कर दिया है। तैयार रूपरेखा के अनुसार 33 शिक्षक और 70 रेजीडेंट्स डॉक्टर्स 24 घंटे चलायेंगे ट्रामा सेंटर, दिसम्बर अंत तक इन पदों पर नियुक्ति प्रक्रिया पूर्ण करने का आश्वासन दिया है।

प्रो. राजकुमार ने बताया कि ट्रामा सेंटर में अलग से पांच न्यूरो सर्जन, पांच आर्थोपैडिक और चार जनरल सर्जन के अलावा प्लास्टिक, ईएनटी, मैक्सीलोफेसियल समेत अन्य सर्जन्स को तैनात किाय जायेगा। जल्दी ही इन पदों के लिए आवेदन लेकर दिसंबर तक नियुक्ति प्रक्रिया पूरा करने का लक्ष्य है। इसके साथ 66 सीनियर रेजीडेंट और 10 जूनियर रेजीडेंट की तैनाती होगी। इसके अलावा नर्सेज, पेशेंट सहायक फिलहाल आउट सोर्स किया जाएगा। बिजली की केबिल ठीक करा ली गयी है। एक लाइन अलग से वृंदावन उपकेंद्र से ली जा रही है। ट्रामा सेंटर में सीटी व अन्य पैथोलॉजिकल जांचों के संबन्ध में उन्होंने बताया ट्रामा सेंटर में सीटी स्कैन, एमआरआई, डिजिटल एक्स-रे , अल्ट्रासाउंड पीपीपी माडल पर लगाया जाएगा। पीपीपी माडल में मशीन की मेंटीनेंस आदि की जिम्मेदारी संबन्धित कंपनी की होगी, उक्त माडल में जांच से जो शुल्क आएगा उसका कुछ प्रतिशत कंपनी को मिलेगा। खून की जांच के लिए भी संस्थान की सुविधा को विस्तारी करण दे दिया जायेगा, संस्थान में रीजेंट कांट्रैक्ट पर लैब है जिसकी शाखा वहां खुल जाएगी।

Please follow and like us:
Pin Share