योग सिखाने में महिलाएं निभा रही अहम भूमिका: महंत देव्या गिरि

0
794
  • योग से पारिवारिक और सामाजिक दोष दूर हो रहे: स्नेहलता सिंह 
  • स्वामी रामदेव के मार्गदर्शन में एक लाख से अधिक निशुल्क योग कक्षाएं चल रही हैं: वंदना बरनवाल  

लखनऊ। महिलाओं के सशक्तिकरण की बात करने की कोई जरूरत नहीं है, क्योंकि वह खुद ही शक्ति स्वरूपा हैं। मैं महिलाओं की सशक्तीकरण करने वालों की बात से पूरी तरह से असहमत हूं। महिलाओं को सशक्तिकरण की क्या आवश्यकता है। योग कक्षाओं में महिलाओं की अहम भूमिका भी इस बात को सिद्ध करती है। यह बात मनकामेश्वर मठ मंदिर की श्रीमहंत देव्या गिरि जी महाराज ने महिला पतंजलि योग समिति के कार्यक्रम के दौरान शुक्रवार को कही।

रायबरेली रोड स्थित सरदार पटेल पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ डेंटल एंड मेडिकल साइंसेज परिसर में श्रीमहंत देव्यागिरि ने बतौर मुख्य अतिथि दीप प्रज्ज्वलित किया। उनके साथ में इंस्टीट्यूट की सचिव स्नेहलता सिंह, महिला पतंजलि योग समिति की राज्य प्रभारी वंदना बरनवाल भी रहीं। यहां पर विशिष्ट अतिथि स्नेहलता सिंह ने कहा कि वह खुद नियमित योगाभ्यास करती हैं। उससे होने वाले लाभ से अच्छी तरह से परिचित हैं। उन्होंने कहा कि इस बात की बहुत ज्यादा जरूरत है कि लोग योग को अपनी दिनचर्या में शामिल करें। राज्य प्रभारी वंदना बरनवाल ने कहा कि आज देश में योग स्वामी रामदेव जी के मार्गदर्शन में लगभग एक लाख से भी अधिक निशुल्क योग की कक्षाएं नियमित रूप से चल रही हैं। जिसमें महिलाओं की भागीदारी कई गुना बढ़ गई है। अपने पारिवारिक और सामाजिक दायित्वों को सफलता और जिम्मेदारी पूर्वक पूरा करते हुए समिति की सभी बहनें निरंतर योग के इस यज्ञ की ज्वाला को प्रज्ज्वलित की हुई हैं। जिसके माध्यम से न सिर्फ शारीरिक बल्कि पारिवारिक और सामाजिक दोष भी दूर हो रहे हैं।

तीन दिन चलेगी कार्यशाला 

वंदना बरनवाल ने बताया कि इंस्टीट्यूट परिसर में ही तीन दिन तक योग की प्रांतीय कार्यशाला और बैठक चलेगी। यहां पर सैकड़ों महिलाओं, युवतियों और छात्राओं को निशुल्क योग शिक्षा दी जाएगी। योग कार्यशाला शनिवार सुबह 5:30 बजे से शुरू होगी। योग के जरिये अधिक से अधिक लोगों को जोड़ा जा रहा है। योग से स्वास्थ्य बेहतर बना रहता है। बीमारी दूर भागती है। कार्यक्रम में मुख्य रूप से विशेष आमंत्रित अतिथि ममता मिश्रा, सुनीता गुप्ता, पूनम हेकड़वाल, दीपा सेठ समेत अन्य महिलाएं अधिक संख्या में रहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here