सब तरफ़ चुटकुले हैं और हिंसा है

0
426

सब तरफ़ चुटकुले हैं और हिंसा है।
सब तरफ़ सारगर्भित मूर्खताएँ हैं।
सब दिवस अब मूर्ख दिवस हैं।

  • अविनाश मिश्र

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here