भाग्य में होंगे हमारे भी उजाले देखना

0
450

आस्था की फ़सल से 
छंट सकेंगे कभी तो ये दिवस काले देखना।
भाग्य में होंगे हमारे भी उजाले देखना।
आज मेरी राह का श्रृंगार शूलों ने किया,
फूल महकेंगे कभी तो धूल वाले देखना।
– कमल किशोर भावुक, लखनऊ

हज़ारों ख़्वाब मरते हैं
तो इक मिसरा निकलता है,
ज़रा सोचो ग़ज़ल
कितने जनाज़ों की
कमाई है! -अनूप श्रीवास्तव 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here