कोरोना तनाव से बचाव

0
248

डॉ दिलीप अग्निहोत्री

वर्तमान पीढ़ी ने कोरोना जैसी त्रासदी और इतने समय का लॉक डाउन का अनुभव पहली बार किया है। इस परिस्थिति ने नकारात्मक विचार को भी बढ़ाया है। यह मानसिक तनाव का कारण हो सकता है। ऐसे में सकारात्मक चिंतन का आवश्यकता है। जिससे तनाव से बचना संभव है। इसके लिए यूनीसेफ, राष्ट्रीय सेवा योजना उत्तर प्रदेश व राष्ट्रीय सेवा योजना,लखनऊ विश्वविद्यालय की ऑनलाइन बैठक व प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसमें राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रम अधिकारियों को मानसिक स्वास्थ्य हेतु काउंसलिंग का प्रशिक्षण दिया गया। काउंसलिंग के सकारात्मक प्रभाव को भी रेखांकित किया गया।

प्रशिक्षण में यूनीसेफ की तरफ से डॉ. दया जी तथा राष्ट्रीय सेवा योजना, उत्तर प्रदेश की तरफ से राज्य संपर्क अधिकारी डॉ. अंशुमाली शर्मा,डॉ अशोक श्रोती,क्षेत्रीय निदेशक,राष्ट्रीय सेवा योजना,भारत सरकार एवं डॉ राकेश द्विवेदी कार्यक्रम समन्वयक, लखनऊ विश्वविद्यालय ने कार्यक्रम का संयोजन किया। इस द्वितीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्रदेशभर से दो सौ से अधिक कार्यक्रम अधिकारियों ने प्रतिभाग किया। मनोवैज्ञानिक डॉ. मानिनी श्रीवास्तव एवं डॉ. रश्मि सोनी ने प्रतिभागियों को मानसिक स्वास्थ्य एवं जनता के बीच उनके अनुप्रयोग’ विषय पर एवं परामर्श के मुख्य बिंदुओ को लेकर प्रशिक्षण दिया।

प्रशिक्षण कार्यक्रम में डॉ. अंशुमाली शर्मा ने बताया कि प्रथम प्रशिक्षण कार्यक्रम के बाद सम्पूर्ण राज्य के चयनित काउंसलरों ने सराहनीय कार्य किया है। उन्होंने बताया कि कार्यक्रम अधिकारियों ने प्रदेश भर से कोरोना संकट को लेकर लोगों में व्याप्त भय एवं आतंक के प्रति लोगों को जागरुक किया। इस संबंद्ध में सलाहकारों ने लोगों के भ्रम एवं चिंता का निराकरण किया, जिसका सकारात्मक परिणाम दिखाई पड़ रहा है। डॉ अशोक श्रोती , क्षेत्रीय निदेशक ने कोरोना से लड़ाई में परामर्श की आवश्यकता पर जोर देते हुए कहा की यही राष्ट्र की वास्तविक एवं सच्ची सेवा है, और राष्ट्रीय सेवा योजना की यही उचित भूमिका एवं कर्तव्य है।

 

उन्होंने आज के माननीय प्रधानमंत्री के देश को संबोधन का भी उल्लेख किया और राष्ट्रीय सेवा योजना के सभी वालंटियर्स एवं कार्यक्रम अधिकारियों को अधिक से अधिक ‘आरोग्य सेतु’ एप डाउनलोड करने एवं करवाने हेतु प्रोत्साहित करने का भी अनुरोध किया। इसके अतिरिक्त कार्यक्रम अधिकारियों को प्रधानमंत्री के आह्वानानुसार लोगों में अधिक से अधिक मास्क वितरित करने का भी अनुरोध किया। डॉ. राकेश द्विवेदी ने बताया कि इस कार्यक्रम के तहत राष्ट्रीय सेवा योजना , लखनऊ विश्वविद्यालय न केवल मनोवैज्ञानिक धरातल पर कार्य कर रहा है बल्कि ज़रूरतमंदों तक आवश्यक खाद्य सामग्री की पहुंच भी सुनिश्चित करा रहा है। ‘मुस्कुरायेगा इंडिया’ कार्यक्रम के तहत काउंसलरों की सूची भी जारी की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here