सईंया केईसे पिसीं चटनियां

1
548
आंधी आइल, पानी आइल, गिर गईल ओला।
पहिले लागत रहे गल्ला, एही साल नाहीं भरत बाटे झोला।।
सईंयां केईसे पिसी चइत में चटनियाँ,
कोरोनवा क डर से घरवे में टुटता खटोला।।
जवना मौसम हो जाव तोहार करिया शरीरिया।
ओही मौसम भुला गईल तू हीं गईल बजरिया।।
चटनी त भुला गईल, खनवो ना घोटात बा।
केकरा से बताईं दरदिया, सब केहू इहां चोटात बा।।
कहवाँ से चर्बी चढ़ी, चनवा त खा गईल ढोला।
आंधी आइल, पानी आइल, गिर गइल ओला।।
हर साल लागत रहे गल्ला, एही साल नाहीं भरत बाटे झोला।।
उपेंद्र नाथ राय ‘घुमन्तु’ 

1 COMMENT

  1. हकीकत को झकझोरती हुई दिल में उतरती हुई कविता..जय हिंद दद्दू।.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here