पुस्तक मेला समितियों की ऑनलाइन प्रतियोगिताएं: गीतों पर थिरके बच्चे

0
281

आज अपनी रची बाल कहानियां सुनाएंगी कीर्ति

रंगबिरंगी पोशाकों में बच्चों ने आज जहां ओम नमः शिवाय…. अर्धशास्त्रीय व बिंदिया चमकेगी….., जय-जय शिव शंकर…., सलामे इश्क मेरी जां…… जैसे फिल्मी गीतों पर नृत्य किया तो इससे पहले गांधी जयंती के उपलक्ष्य में बच्चे गांधी, आजाद, लक्ष्मीबाई जैसे स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का रूप धरकर उनके ‘सिग्नेचर डायलाग’ के साथ आनलाइन स्क्रीन पर उभरे। राष्ट्रीय पुस्तक मेला समिति और लखनऊ पुस्तक मेला समिति की ओर से संयुक्त रूप से आयोजित प्रतियोगिताओं के क्रम में कल किसान अथवा सैनिक से सम्बंधित चित्रकला प्रतियोगिता पांच से 20 वर्ष तक तीन आयुवर्गों में ऑनलाइन होगी। साथ ही कल शाम रचनाकार कीर्ति अवस्थी बच्चों के लिए अपनी कहानियां पढ़ेंगी।

प्रतियोगिता संयोजक ज्योति किरन रतन ने बताया कि फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता में अयांश राय, व्योम यादव, वैष्णवी सिंह, समृद्धि सक्सेना, रिद्धिमा सोनकर, प्राची वर्मा, पिहू सक्सेना, प्रणव तिवारी, शाम्भवी दुबे, अनय श्रीवास्तव, अंकित गुप्ता, राविन, अंकित चण्डोक ने जोशीले संवाद सुनाकर देश को आजादी दिलाने वाले लड़ाकों की याद ताजा कर दी। आज वेदान्तिका, अक्षिता, रिजा सिद्दीकी, पंखुड़ी सोनकर, दिव्यांश कष्यप, अंषिका मिश्रा, अंषिका मिश्रा, आदि आनलाइन गीतों पर अपने परिचय देने के साथ थिरके।

आयोजक मनोज सिंह चंदेल व आस्था ढल ने बताया कि आयोजनों में विजेताओं सहित प्रतियोगिता के सभी प्रतिभागियों को ई-प्रमाणपत्र प्रदान किये जाएंगे। चुने गये टाॅप-फाइव प्रतिभागियों को विषिष्ट प्रमाणपत्र मिलेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here