खुद अपनी किस्मत लिखना सीखें

1
205

दरअसल तरक्की किसे नहीं पसंद, जीवन में हर व्यक्ति में तरक्की चाहिएं, लेकिन इसे पाने के लिए कड़ा पसीना बहाना पड़ता है। बड़े-बड़े बिजनेसपर्सन्स को देख कर अक्सर लोग कह देते हैं कि इनकी तो किस्मत ही कमाल की है. जबकि सच बात यह है कि बिजनेस की फील्ड में किस्मत खुद लिखी जाती है। यदि कोई व्यक्ति खुद बिजनेस को आगे बढ़ाने की दिशा में नहीं सोच रहा, अच्छे फैसले कर के काम को आगे नहीं ले जा रहा या जिम्मेवारियों से भाग रहा है, तो उसका बिजनेस एक न एकदिन बैठ जायेगा. इस फील्ड में अपनी किस्मत खुद लिखने के लिए आपको कई विशेष गुण अपने व्यवहार में अपनाने ही होंगे।

याद रखें कि शुरुआत छोटे से ही होती है। बिजनेस शुरू करने के लिए लोग इस इंतजार में बैठे रहते हैं कि बिजनेस तो बड़ा ही खोलेंगे। यह अप्रोच गलत है. छोटे लेवल से शुरू कर के ऊपर की ओर बढ़ना आसान है, लेकिन बड़े स्तर पर बिजनेस खोल कर विफलता ङोल पाना कहीं मुश्किल है।


आज ऊंचाइयों पर बैठे कई लोगों की शुरुआत छोटे स्तर से हुई थी. एक बात यह भी जरूरी है कि बिजनेस में सारे काम अकेले करने की न सोचें. अपने कलीग्स, जूनियर्स, सीनियर्स आदि की मदद लें, तभी आप पूरे बिजनेस को आगे ले जा पायेंगे।

यह सोच लें कि आप यहां खुद को योग्य साबित करने नहीं आये हैं, बल्कि इस बिजनेस को एक मुकाम दिलाने आये हैं। एक बात गांठ बांध लें कि भागना नहीं है. किस्मत लिखने के लिए आपको अपनी जिम्मेवारियों को तो खुद उठाना ही होगा, साथ ही अपने कार्यो और फैसलों के सही या गलत हो जाने की भी जिम्मेवारी खुद ही लेनी होगी. जब तक महत्वपूर्ण कामों की जिम्मेवारी दूसरों पर डालते रहेंगे, फैसले के गलत हो जाने पर दूसरों को कोसते रहेंगे, न तो काम सीख पायेंगे और न ही यह जान पायेंगे कि गलती कहां हुई?


बिजनेस में कभी भी जल्दबाजी न करें. बहुत से लोग ऐसे देखने में आते हैं, जो आज बिजनेस शुरू करके चार से पांच महीने में यह कह कर इसे बंद कर देते हैं कि काम चल ही नहीं रहा था। बिजनेस से तुरंत रिजल्ट्स मिल जाने की उम्मीद न पालें। थोड़ा धैर्य रखें. आज नये बिजनेस की तुलना यदि दशकों पुराने बिजनेस से करेंगे, तो कभी अपनी क्षमताओं से न्याय नहीं कर पायेंगे।

यह भी याद रखें:

  1. बिजनेस में गलती हो, तो यह देखें कि गलती किस वजह से हुई। खुद को कोसना बंद करें। गलती से सीखें और बेहतर कदम उठाएं।
  2. किसी ने कहा है कि ‘अगर आपसे कुछ गलती नहीं हो रही, तो शायद आप कुछ नया नहीं कर रहे। बिजनेस के सफर में गलतियां तो होती रहती हैं।’

1 COMMENT

  1. Definiteⅼy believe that which you stated. Your favorite justification ѕeemed to
    be onn the net the easiest thing to be aware of. Ӏ sɑy tо you, I definiteⅼy get
    irқed whіle peopⅼe think about worries tthat
    they just do not know about. You managed to hhit tһe nail upon the top and also defined out the whole thing without having side effect , people caan tɑke a signal.

    Ԝill probably be back to get more. Thanks

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here