57 दिन में पाक ने 400 से ज्यादा बार तोड़ा सीजफायर 

0
956

नई दिल्ली, 28 फरवरी। कश्मीर में आतंकियों की घुसपैठ में लगातार पाकिस्तान सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है। सीमा पर पाकिस्तान की नापाक हरकतों को देखकर लग रहा है कि साल 2018 में सीजफायर उल्लंघन का पिछले 15 साल का रिकॉर्ड टूट सकता है। साल 2018 के अभी दो महीने ही बीतें हैं और अभी तक 400 से ज्यादा बार पाकिस्तान सीजफायर का उल्लंघन कर चुका है। सीजफायर उल्लंघन के दौरान स्थानीय नागरिकों के अलावा पाकिस्तान के 23 जवान मारे जा चुके हैं, जबकि 26 भारतीय सैनिक शहीद हो चुके हैं। यही कारण है कि ऐसा कहा जा रहा है अगर सीमा पर सीजफायर उल्लंघन का सिलसिला नहीं थमा तो यह बीते 15 वर्षों का रिकॉर्ड तोड़ सकता है। 26 नवंबर, 2003 में दोनों देशों के बीच आपसी विश्वास बहाली के तहत अहम कदम उठाए गए, जिनमें 198 किलोमीटर का अंतरराष्ट्रीय सीमा, 778 किलो की नियंत्रण रेखा और 110 किलो की सियाचिन की वास्तविक ग्राउंड पोजिशन शामिल है।

बौखलाया पाकिस्तान

सेना की सर्जिकल स्ट्राइक से बौखलाए पाकिस्तान ने पिछले साल एलओसी पर 860 बार सीजफायर का उल्लंघन किया, जबकि अंतर्राष्ट्रीय बॉर्डर पर 120 बार ऐसा किया। साल 2017 में सेना ने सितंबर 2016 में हुई। दोनों देशों की सेनाओं की तरफ से 105 एमएम लाइट फील्ड गन्स, 120एमएम हेवी मोर्टार और एंटी-टैंक गाइडिड मिसाइल्स का इस्तेमाल किया जा रहा है। पिछले हफ्ते उरी सेक्टर में बड़ा हमला किया गया था। सितंबर 2016 में उरी में सेना शिविर में आत्मघाती हमले में 19 भारतीय सैनिकों की हत्या का बदला लेने के लिए सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक की थी और पीओके में घुसकर चार अलग-अलग स्थानों आतंकियों के ठिकानों को निशाना बनाया था। भारत ने एलओसी के क्षेत्र बलनोई, मेंधार, कलाल, डोडा में पाकिस्तानी आर्मी के कई इलाकों को ढेर किया है।
सेना का कहना है कि इन इलाकों में करीब 400 आतंकियों को पाकिस्तान का समर्थन मिला हुआ है। सेना के अधिकारी का कहना है कि सीमा पार करीब 400 आतंकी जम्मू कश्मीर में घुसपैठ करने की फिराक में बैठे है, जिनकी मदद पाकिस्तान कर रहा है। हाल ही में पाकिस्तान के आर्मी चीफ ने लाउडस्पीकर की मदद से सीमा से सटे इलाकों में रहने वाले नागरिकों को चेतावनी देते हुए उन्हें वहां से सुरक्षित स्थान पर जाने को कहा था। हालांकि पहले यह कहा जा रहा था कि ये चेतावनी कश्मीर के लोगों के लिए है, लेकिन भारतीय सेना ने यह साफ कर दिया कि ये चेतावनी पीओके के नागरिकों के लिए थी।
गौरतलब है कि 2017 में उरी आतंकी हमले के बाद सेना ने पाकिस्तान से बदला लेने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक की और उसके घर में घुसकर आतंकियों व पाक सेना को करारा जवाब दिया। जिसके बाद से दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया। वहीं, कश्मीर में सेना के ऑपरेशन ऑलआउट ने पाकिस्तान को बेचैन कर रखा है। जिसके बाद से लगातार पाकिस्तान आतंकियों की घुसपैठ के लिए सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है। सीजफायर उल्लंघन की वजह से 2017 में भारत के 32 जवान शहीद हुए, तो पाकिस्तान के 130-140 जवान मारे गए है।