कमिश्नरी को नई परिभाषा देंगे लखनऊ के पहले कमिश्नर सुजीत पांडेय

0
209

नवेद शिकोह

उत्तर प्रदेश की आम जनता की एक आम कहावत है- “कमिश्नरी मत दिखाओ”। इसका आशय है- रौब मत दिखाओ.. हनक मत दिखाओ.. रुतबा मत झाड़े। आम लोगों के बीच कमिश्नरी की इस धारणा के विपरीत लखनऊ के पहले कमिश्नर सुजीत पांडेय कमिश्नरी की नई और सकारात्मक परिभाषा सृजित करेंगे। उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था को और बेहतर बनाने के लिए योगी सरकार ने प्रदेश की राजधानी लखनऊ और नोएडा में कमिश्नर प्रणाली लागू करके इतिहास रचा है। और अब यूपी की राजधानी लखनऊ के नवनियुक्त कमिश्नर सुजीत पांडेय अपनी कार्यप्रणाली को एक नया रंग देकर इतिहास रचने की तैयारी कर रहे हैं।

राजधानी का सबसे बड़ा ये पुलिस अफसर आम जनता के बीच नजर आयेगा। कमिश्नर सुजीत पांडेय एक ट्राफिक सिपाही की तरह चौराहे पर यातायात व्यवस्था नियंत्रित करते भी दिख सकते हैं, तो कभी कानून व्यवस्था, सुरक्षा और यातायात व्यवस्था की समस्याओं को लेकर आम जनता से रूबरू भी होंगे। श्री पांडेय से मुलाकात में महसूस हुआ कि वो अपनी नयी जिम्मेदारी को लेकर बेहद उत्साहित हैं और अति अपेक्षाओं के दबाव मे भी हैं।

उन्होने बताया कि वो ना सिर्फ अपने मातहतों के बीच बल्कि जनता के बीच बेहतर सामंजस्य बनाने का हर संभव प्रयास करेंगे। मौका मिला तो शहर के अति व्यस्त चौराहों पर खड़े होकर यातायात व्यवस्था संभालने में भी वो कोई गुरेज नहीं करेंगे। थानों और चौकियों पर भी इलाके की कानून व्यवस्था, सुरक्षा के इंतेजामों का जायजा लेंगे। मौके पर कोई फरियादी मिल गया तो उसका दुख-दर्द सुनेंगे और तत्काल समाधान भी करेंगे। दरोगा से लेकर सिपाहीं और यहां कि होमगार्ड के काम की निगरानी भी रखेंगे और ड्यूटी के दौरान उसकी समस्याओं के निराकरण की हर संभव कोशिश करेंगे।

शहर की कानून व्यवस्था को और भी बेहतर बनाने के लिए.. शांति व्यवस्था क़ायम रखने के लिए.. समाज को भयमुक्त रखने और पुलिसिया व्यवस्था पर सबका विश्वास क़ायम रखने के लिए कमिश्नर सुजीत पांडेय शहर के गणमान्य नागरिकों और सामाजिक कार्यकर्ताओं से भी संवाद बना कर रखेंगे।

सबसे संवेदनशील और घनी आबादी वाले पुराने लखनऊ के गणमान्यजन, धार्मिक नेताओं और उलमा इत्यादि से मिलकर तहज़ीब के शहर लखनऊ में कानून और शांति व्यवस्था को और भी बेहतर बनाने में मदद की इल्तिजा कर सबका विश्वास जीतने की कोशिश करेंगे लखनऊ के कमिश्नर सुजीत पांडेय।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here